मोदीजी का ‘नेहरू राग’ और अफसाना फिरोज गांधी का

दिन ब दिन की इंटरनेट बहसों और खबरिया चैनलों के रंगमंच पर संक्षिप्त टिप्पणी.

   bookmark_add
  • whatsapp
  • copy

अडानी समूह के ऊपर लगे आरोपों का अखाड़ा पिछले हफ्ते संसद भवन में आयोजित हुआ. पक्ष और विपक्ष ने एक दूसरे पर जुबानी प्रहार किया. राहुल गांधी ने अडानी समूह की धांधलियों और गौतम अडानी की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नजदीकियों के तीर चलाए. राज्यसभा में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ को घेरा. यह सब सुनने के बाद प्रधानमंत्रीजी की बारी आई. और आते ही उन्होंने धुआंधार, चौतरफा हमला बोलकर सबको अपनी-अपनी जगह बता दी.

प्रधानमंत्री अपने बयान में पूरी तरह से ईमानदार रहे. उन्होंने स्वीकार किया कि कमल का लेना-देना कीचड़ से है. कीचड़ ही कमल का खाद-पानी है. जैसे ही कीचड़ मिलता है, कमल खिल उठता है. प्रधानमंत्रीजी तन, मन, धन से प्रचारक हैं. उन कहानियों में उनकी अगाध श्रद्धा है जिन्हें बतौर स्वयंसेवक सुनते-पढ़ते वो जवान हुए हैं. ऐसी ही बचपन की एक कहानी प्रधानमंत्रीजी ने संसद में सुनाई.

संसद में चुनौतियों का मौसम था. लगे हाथ एक चुनौती रूबिका लियाक़त ने भी कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की ओर उछाल दी. क्या थी वो चुनौती जिसे सुनकर धरती गड़गड़ा कर फट गई, आसमान में बिजलियां चमकने लगीं. आखिर क्यों रूबिकाजी तुर्की ब तुर्की हो रही थीं? लगे हाथ इस हफ्ते मैंने टिप्पणी में एक खास किस्म का एंकर बनने के लिए जरूरी तमाम स्किल और कौशल के बारे में बताया है. यह खास किस्म का एंकर बनने के लिए जिस स्किल उसके अभाव में देश की असंख्य प्रतिभाएं यूंही बर्बाद हो जाती हैं.

subscription-appeal-image

Support Independent Media

क्या मीडिया सत्ता या कॉर्पोरेट हितों के बजाय जनता के हित में काम कर सकता है? बिल्कुल कर सकता है, लेकिन तभी जब वह धन के लिए सत्ता या कॉरपोरेट स्रोतों के बजाय जनता पर निर्भर हो. इसका अर्थ है कि आपको खड़े होना पड़ेगा और खबरों को आज़ाद रखने के लिए थोड़ा खर्च करना होगा. सब्सक्राइब करें.

Also see
नफरती भाषण दिखाने पर मीडिया संस्थान को दिल्ली पुलिस का नोटिस, पर क्यों?
हिंडनबर्ग रिपोर्ट से अडानी समूह की मीडिया विस्तार योजना को लगा झटका
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like