सामने आया है कि पाञ्चजन्य के संपादक हितेश शंकर ने ट्विटर पर पूरी तरह से आधारहीन और भ्रामक दावा किया.