सोनिया गांधी पर आरोपों के बाद कांग्रेस ने पत्रकार तवलीन सिंह से मांगा सबूत

इंडिया टुडे के एक कार्यक्रम में पत्रकार तवलीन सिंह ने कहा कि डॉ. मनमोहन सिंह जब प्रधानमंत्री थे उस समय “ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट” का उल्लंघन कर पीएमओ की गुप्त फाइलें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास भेजी गईं.

सोनिया गांधी पर आरोपों के बाद कांग्रेस ने पत्रकार तवलीन सिंह से मांगा सबूत
  • whatsapp
  • copy

कांग्रेस पार्टी ने वरिष्ठ पत्रकार तवलीन सिंह से सोनिया गांधी को लेकर लगाए गए आरोपों पर सबूत मांगा है. सबूत न देने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी भी दी है. 

कांग्रेस मीडिया और प्रचार विभाग के प्रमुख पवन खेड़ा ने ट्वीट कर कहा, “तवलीन सिंह या तो सबूत पेश करें, या आगे की कानूनी कार्यवाही के लिए तैयार रहें. बहुत बर्दाश्त कर लिया है, अब यह बकवास नहीं चलेगी.”

खेड़ा से पहले पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने भी ट्वीट कर तवलीन सिंह के बयान पर नाराजगी व्यक्त की. उन्होंने कहा, “हम उन्हें (तवलीन) चुनौती देते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री के खिलाफ अपने बेतुके और गैर-जिम्मेदाराना आरोप को साबित करें.”

दरअसल यह पूरा वाकया बुधवार का है. इंडिया टुडे के एक कार्यक्रम में पत्रकार तवलीन सिंह ने कहा कि डॉ. मनमोहन सिंह जब प्रधानमंत्री थे उस समय “ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट” का उल्लंघन कर पीएमओ की गुप्त फाइलें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास भेजी गईं.”

उनके इस बयान पर पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने, शो में मौजूद कांग्रेस नेता प्रवीण चक्रवर्ती को तुरंत ही इस बयान पर तवलीन सिंह से सबूत मांगने को कहा. साथ ही उन्होंने ट्वीट करते हुए तवलीन सिंह को सबूत पेश करने की चुनौती दी.

पी चिदंबरम के ट्वीट पर तवलीन सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा, ”पीएमओ में काम करने वाले लोगों ने सरकारी फाइलों को 10 जनपथ तक ले जाने वाले अधिकारियों के नाम बताए हैं. पूर्व मंत्रियों ने सोनिया गांधी से आदेश लेने की बात स्वीकार की है. तब वास्तव में वे ही प्रधानमंत्री थीं, और अब भी वे ही वास्तव में कांग्रेस अध्यक्ष बनी रहेंगी.” 

इंडिया टुडे पर जिस डिबेट के दौरान तवलीन सिंह ने यह बयान दिया, वह मल्लिकार्जुन खड़गे के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी में गांधी परिवार की संभावित भूमिका पर थी.

subscription-appeal-image

Support Independent Media

यह एक विज्ञापन नहीं है. कोई विज्ञापन ऐसी रिपोर्ट को फंड नहीं कर सकता, लेकिन आप कर सकते हैं, क्या आप ऐसा करेंगे? विज्ञापनदाताओं के दबाव में न आने वाली आजाद व ठोस पत्रकारिता के लिए अपना योगदान दें. सब्सक्राइब करें.

Also see
मेनस्ट्रीम मीडिया में शीर्ष पदों पर एक भी एससी-एसटी पत्रकार नहीं
गाम्बिया में कफ सिरप से हुई मौतों के मामले में सीडीएससीओ ने भेजा नोटिस

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like