आर्यन खान को क्लीन चिट और न्यूज़ चैनलों का यू-टर्न

शुक्रवार 27 मई को आर्यन खान को ड्रग्स तस्करी मामले में क्लीन चिट मिल गई. अक्टूबर 2021 में ज्यादातर टीवी चैनलों के बीच आर्यन खान को गुनाहगार साबित करने की होड़ मची हुई थी, लेकिन फैसला आने के बाद इन चैनलों ने यू-टर्न ले लिया है.

   bookmark_add
आर्यन खान को क्लीन चिट और न्यूज़ चैनलों का यू-टर्न
  • whatsapp
  • copy

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने शुक्रवार को बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को बहुचर्चित क्रूज ड्रग्स मामले में क्लीन चिट दे दी है. आर्यन के खिलाफ एसआईटी को कोई ठोस सबूत नहीं मिले हैं. बता दें कि इस मामले में आर्यन खान को 26 दिनों तक जेल में रहना पड़ा था. वहीं अब 238 दिनों के ट्रायल के बाद आर्यन समेत छह लोगों को सबूत नहीं मिलने के कारण क्लीन चिट दे दी गई है.

आर्यन की रिहाई, मीडिया के एक तबके पर कई सवाल खड़े करती है. अक्टूबर 2021 में आर्यन खान क्रूज ड्रग्स मामला मीडिया के निशाने पर था. हर टीवी डिबेट पर आर्यन खान को 'ग्रिल' किया जा रहा था. घंटों उनके ड्रग्स कनेक्शन पर बात हो रही थी. तब ज्यादातर समाचार टीवी चैनल इस खबर पर यह दावा करते हुए झपट पड़े, कि आर्यन खान के जरिए एनसीबी ने एक 'ड्रग्स माफिया' का भंडाफोड़ किया है और यह बॉलीवुड का 'काला सच' है.

मामले की जांच कर रहे अधिकारियों से पहले, सबूत मीडिया के पास मिल जाते थे. चाहे वह आरोपी (प्रभाकर सेल) का इंटरव्यू हो या अदालत में पेश होने से पहले सबूत (व्हाट्सएप चैट और वीडियो क्लिप) की प्रस्तुति, आर्यन खान को नशेड़ी, तस्कर और पैडलर कहकर संबोधित किया गया और उनकी छवि को धूमिल करने की भरपूर कोशिश की गई. आर्यन खान का मामला इतना बड़ा हो गया था कि उस समय लखीमपुर खीरी हिंसी जैसी अहम खबर भी प्राइम टाइम से गायब थी. समूचा मीडिया, खान को दोषी साबित करने में लगा था.

लेखक तवलीन सिंह समेत कई लोगों ने आर्यन खान ड्रग्स मामले पर, मीडिया की भूमिका को लेकर सवाल खड़े किए. तवलीन ने ट्वीट किया, “आर्यन खान का मीडिया ट्रायल भी उतना ही शर्मनाक और पक्षपाती था, जितना कि नारकोटिक्स ब्यूरो का झूठा मामला. जो 'पत्रकार' इसका हिस्सा बने, उन्हें स्पष्टीकरण देना होगा.”

अब जब एनसीबी ने आर्यन खान को बेदाग घोषित कर दिया है, तो मीडिया चैनलों ने भी अपना रुख बदल दिया है. अब मीडिया ने आर्यन को 'मासूम' और 'बेगुनाह' बताकर समीर वानखेड़े के जरिए एनसीबी को अपना नया निशाना बना लिया है.

टाइम्स नाउ: पहले कहा नशेड़ी अब बताया मासूम

उन दिनों टाइम्स नाउ (अंग्रेजी) के शो न्यूज़ऑवर पर आर्यन खान कई दिन तक चर्चा का विषय रहे थे. नाविका ने बकायदा अपने शो पर कहा था कि आर्यन खान का मामला, इस वक्त (अक्टूबर में) देश का सबसे बड़ा चर्चा का विषय है. चैनल पर आर्यन खान की व्हाट्सएप चैट का हवाला देते हुए उन्हें ड्रग्स के लेन-देन में शामिल बताया गया था.

शुक्रवार को आर्यन खान को क्लीन चिट मिलने के बाद टाइम्स नाउ के एंकर राहुल शिवशंकर ने अपने शो 'ब्लूप्रिंट' को एक्सक्लूसिव बताया. इस शो में वह कहते हैं कि कैसे आर्यन के खिलाफ पुख्ता सबूत होने के बावजूद उन्हें 'कोई सबूत नहीं' बताकर छोड़ दिया गया. वह एनसीबी का मेमो/नोटिस पढ़ने से शो की शुरुआत करते हैं. वह आगे कहते हैं, "पुलिस ने ड्रग्स बरामद किए. आर्यन खान ने नोटिस पर सहमति जताते हुए दस्तखत भी किये. आर्यन खान के खिलाफ ठोस सबूत थे और अब एकदम से कोई सबूत नहीं बचा है. चार्जशीट और नोटिस में इतना फर्क है? क्या यह इसलिए क्योंकि एनसीबी अधिकारी शाहरुख खान से पैसे वसूलना चाहते थे? या इसके और पहलू हैं?"

नविका कुमार ने भी टाइम्स नाउ पर डिबेट रखी. आर्यन खान का पक्ष लेते हुए डिबेट के दौरान नविका ने आर्यन खान से हमदर्दी जताई और सवाल किया, "एक 23 साल के युवा के लिए यह सब सहना कितना मुश्किल होगा कि वह 26 दिन तक आर्थर रोड जेल में कैदी था. उसका नाम खराब किया गया. उसका समय बर्बाद हुआ. क्या आपको लगता है कि कोई भी इस नुकसान की भरपाई कर पाएगा?"

जबकि अंग्रेजी के मुकाबले टाइम्स नाउ नवभारत (हिंदी) पर नविका ने अपने शो, 'सवाल पब्लिक का' पर आर्यन खान पर कोई चर्चा नहीं की. वहां उन्होंने केवल ज्ञानवापी मामले पर डिबेट रखी.

आर्यन खान मुख्य चर्चा का विषय नहीं था

उन दिनों रिपब्लिक भारत पर एंकर सईद सोहेल ने अपने शो 'ये भारत की बात है' पर आर्यन खान को पकड़े जाने की 'इंसाइड स्टोरी' प्रस्तुत करी थी. इस शो में यह तक बताया गया कि आर्यन खान ने किस दिन, कौनसे रंग की टीशर्ट पहनी, और किस रंग का मास्क लगाया था. रिपोर्टर घूम-घूमकर शाहरुख खान और आर्यन खान की गाड़ी का पीछा कर रहे थे. रिपब्लिक भारत के मीडिया रूम को, कोर्ट रूम का माहौल दे दिया गया था. उस समय एनसीबी ड्रग्स केस के बारे में रिपब्लिक चैनल ने, जमीन से मिनट दर मिनट की अपडेट प्रसारित कीं. यहां तक कि एक रिपोर्टर को मुंबई में शाहरुख खान के घर मन्नत के बाहर खड़ा रहने के लिए भेज दिया था.

लेकिन शुक्रवार 27 मई को सईद सोहेल के लिए योगी वर्सेस अखिलेश की कहासुनी अधिक महत्वपूर्ण विषय रहा. सेट को यूपी विधानसभा का रूप दे दिया गया. इसके आगे की चर्चा अजमेर शरीफ, मंदिर वर्सेस दरगाह पर हुई.

देश का नंबर वन चैनल होने का दावा करने वाला आज तक भी आर्यन खान के ड्रग्स मामले में पीछे नहीं था. एंकर चित्रा त्रिपाठी ने 'जेल में है जान' नाम का शो किया था, जिसमें बताया गया था कि आर्यन खान आर्थर रोड जेल में हैं. शाहरुख खान ने आर्यन को 4500 रूपए मनी आर्डर किए हैं ताकि वह कैंटीन से कुछ खा सकें, लेकिन जेल के अधिकारीयों ने कहा है कि आर्यन को जेल का ही खाना खाना पड़ेगा. इसके अलावा ऐसे शो भी किए गए थे जिसमें आर्यन खान के कार्टून के जरिए दिखाया गया कि वह जेल में रो रहे हैं. अंजना ओम कश्यप ने अपने शो दंगल में भी कई दिन तक आर्यन खान पर चर्चा की और बॉलीवुड के ड्रग्स कनेक्शन पर बात की.

हालांकि अब आर्यन खान को क्लीन चिट मिलने की खबर ने जैसे इन एंकरों को निराश कर दिया है, शायद इसलिए आर्यन खान का मामला शुक्रवार की अहम चर्चा से बाहर ही रहा. केवल आज तक के एंकर सईद अंसारी ने शो किया, जिसमें उन्होंने पूरे मामले को समझाया. वहीं चित्रा त्रिपाठी के शो दंगल में ज्ञानवापी मस्जिद मामले पर विस्तार से बातचीत की गई. उन्होंने आर्यन खान को लेकर कोई शब्द नहीं कहा.

बीते साल एबीपी न्यूज़ के रिपोर्टर मन्नत से लेकर आर्थर रोड तक शाहरुख खान की गाड़ियों का पीछा कर रहे थे. तब उन्होंने कहा था, “पीछे की सीट पर शाहरुख खान बैठे हैं. वह अपने बेटे को लेने जेल जा रहे हैं. संभव है कि अगर प्रक्रिया में थोड़ा वक्त लगेगा तो वहीं वो एक पांच सितारा होटल में रुकेंगे… इंतजार करेंगे.” यह एबीपी की एक्सक्लूसिव खबर थी. आर्यन खान की बेल के बाद भी अपने शो मास्टरस्ट्रोक में रुबिका लियाकत ने मामले को खूब उछाला और आर्यन खान के बजाए एनसीपी नेता नवाब मालिक के खिलाफ और एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर शो चलाया किया था.

रोमाना खान ने ‘ऑपरेशन व्हाट्सएप’ नाम से एक एक्सक्लूसिव शो किया था, लेकिन कल शुक्रवार को रुबिका ने 10 मिनट में आर्यन खान का मामला निपटा दिया. उन्होंने इस बार यू-टर्न मार लिया और आर्यन खान के बजाए एनसीबी को कठघरे में खड़ा कर दिया.

सुधीर चौधरी ने अपने शो डीएनए में सवाल किया कि क्या समीर वानखेड़े के बयान सही हैं, जो कहते हैं कि आर्यन खान मामला, अंतरराष्ट्रीय ड्रग मार्केट से जुड़ा है, या हाल ही में आई चार्जशीट सही है जो कहती है कि आर्यन खान बेगुनाह हैं? उन्होंने आगे कहा कि क्या आर्यन खान को 'स्टार किड' होने की सजा मिली है?

जबकि सुधीर ने पहले के एपिसोड में कहा था कि इस मामले की वजह से पूरा देश आर्यन खान को जान गया है और अब उनकी फिल्म भी आ सकती है. सुधीर का कहना था कि इस फिल्म में अपना ही किरदार निभाकर शायद शाहरुख खान इसी बहाने अपने बेटे को लॉन्च कर रहे हों.

वहीं रजत शर्मा ने अपने शो 'आज की बात' पर आर्यन को 'बेकसूर नौजवान' कहा और एनसीबी को निशाना बनाया. जबकि अपने पुराने एपिसोड में रजत शर्मा ने कहा था कि राजनीति के लिए कुछ नेता समीर वानखेड़े को निशाना बना रहे थे.

यह स्पष्ट है कि पिछले साल जिन टीवी चैनलों ने चिल्ला-चिल्लाकर आर्यन खान को बदनाम करने का पूरा प्रयास किया था, उन्होंने अब बहुत शांत तरीके से मामले से पल्ला झाड़ लिया है. अब या तो आर्यन खान को मिली क्लीन चिट इन चैनलों की मुख्य डिबेट का हिस्सा नहीं बन पाई, या फिर महज 10 मिनट के लिए इन एंकरों ने समीर वानखेड़े को निशाना बना लिया.

Also see
शिवलिंग पर सवार बनारस के अखबारों की हवाई उड़ान
संघ समर्पित मीडिया का पत्रकारिता अवार्ड और खुशकिस्मत चेहरे

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like