दिवाली बोनांजा: अखबारों पर जमकर हुई धनवर्षा

दिवाली सप्ताह में हिंदी अखबारों को मिलने वाले विज्ञापनों की पड़ताल.

दिवाली बोनांजा: अखबारों पर जमकर हुई धनवर्षा
Shambhavi
  • whatsapp
  • copy

हिंदुस्तान

हिंदुस्तान अखबार के दिल्ली संस्करण की बात करें तो 31 अक्टूबर को यह अखबार 24 पन्नों का प्रकाशित हुआ जिसमें 11 फुल पेज विज्ञापन देखने को मिले. इनमें नौ निजी संस्थाओं के और दो सरकारी विज्ञापन थे. हाफ पेज विज्ञापन की बात करें तो इसमें चार निजी और चार सरकारी विज्ञापन थे. इसमें छह फुल पेज और छह ही हाफ पेज खबरें थी. सरकारी विज्ञापनों में उत्तर प्रदेश सरकार, दिल्ली सरकार और गेल का विज्ञापन था.

1 नवंबर को 9 फुल पेज निजी विज्ञापन देखने को मिले. हाफ पेज विज्ञापनों की बात करें तो इसमें 4 निजी और 5 सरकारी विज्ञापन थे. अखबार में सात फुल पेज और सात ही हाफ पेज खबरें थी. इस दिन सरकारी विज्ञापनों में उत्तर प्रदेश सरकार और हरियाणा सरकार के विज्ञापन शामिल थे.

2 नवंबर को 32 पन्नों का अखबार प्रकाशित हुआ जिसमें 13 फुल पेज विज्ञापन थे. इनमें 11 निजी, 1 सरकारी और 1 क्लासीफाइड विज्ञापन था. हाफ पेज विज्ञापन भी 11 पन्नों पर देखने को मिले. इनमें से नौ पन्नों पर निजी और दो पन्नों पर सरकारी विज्ञापन थे. खबरों कि बात करें तो 9 फुल और 11 हाफ पेजों पर खबरें प्रकाशित हुईं.

सरकारी विज्ञापन दिल्ली सरकार, बिहार सरकार और दिल्ली जल बोर्ड कि तरफ से जारी किए गए थे. इस दिन अखबार में लगभग 58 फीसदी विज्ञापन थे.

3 नवंबर को 24 पन्नों का अखबार प्रकाशित हुआ जिसमें 12 फुल पेज विज्ञापन थे. इनमें से सात पन्नों पर निजी और पांच पन्नों पर सरकारी विज्ञापन थे. हाफ पेज विज्ञापन की बात करें तो यह कुल दो पन्नों पर देखने को मिला. इस दिन 10 पेज फुल और एक हाफ पेज पर खबर प्रकाशित हुई. इस दिन उत्तर प्रदेश सरकार, उत्तराखंड सरकार और दिल्ली सरकार द्वारा विज्ञापन जारी किए गए थे.

हिंदुस्तान अखबार में चार नवंबर को 22, छह नवंबर को 20, सात नवंबर को 18, आठ नवंबर को 18 पन्ने प्रकाशित हुए. इस दौरान फुल पेज के 14 विज्ञापन थे जिनमें से 13 प्राइवेट और एक सरकारी विज्ञापन था. हाफ पेज के विज्ञापनों की बात करें तो 15 प्राइवेट और 1 सरकारी विज्ञापन था. इन सभी दिनों के अख़बारों में कुल 47 पन्नों पर फुल पेज खबर प्रकाशित हुई. जो एक पेज सरकारी विज्ञापन था वह उत्तराखंड सरकार का था.

31 अक्टूबर से 8 नवंबर तक हिंदुस्तान अखबार में औसतन 43 फीसदी विज्ञापन देखने को मिले हैं. इस दौरान कुल 158 पन्ने प्रकाशित किए गए जिनमें से 48 फुल पेज और 39 हाफ पेज विज्ञापन देखने को मिले. इसमें उन विज्ञापनों को शामिल नहीं किया गया है जो पूरी खबरों वाले पन्ने पर एक-एक विज्ञापन होता है.

अमर उजाला

विज्ञापन प्रकाशित करने वाले अखबारों में अमर उजाला अग्रिम श्रेणी में खड़ा नज़र आता है. यहां हम अमर उजाला के लखनऊ संस्करण की बात कर रहे हैं. 31 अक्टूबर को अमर उजाला 38 पन्नों का प्रकाशित हुआ जिसमें 16 फुल पेज विज्ञापन देखने को मिले. इनमें से 14 निजी संस्थाओं के और 2 सरकारी थे. वहीं अगर हाफ पेज विज्ञापनों की बात करें तो इनकी संख्या 14 थी. सरकारी विज्ञापन उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी किए गए थे. जिसमें से 10 निजी संस्थाओं के और चार सरकारी थे. वहीं आठ फुल पेज और 14 हाफ पेज खबरें थीं.

1 नवंबर को यह अखबार 24 पन्नों का प्रकाशित हुआ. जिसमें पांच फुल और 12 हाफ पेज विज्ञापन प्रकाशित किये गये जिसमें से चार हाफ पेज विज्ञापन सरकारी थे. खबरों कि बात करें तो यह सात फुल और 12 हाफ पेज पर थीं.

2 नवंबर को 39 पन्नों का अखबार प्रकाशित हुआ. इस दिन भी अखबार में विज्ञापनों कि भरमार देखने को मिली. 39 पन्नों के इस अखबार में 12 फुल पेज विज्ञापन थे जिनमें से 10 निजी संस्थाओ के और 2 सरकारी विज्ञापन थे. वहीं 15 हाफ पेज विज्ञापन देखने को मिले जिनमें से 14 निजी संस्थाओं के और एक सरकारी विज्ञापन था. सरकारी विज्ञापन मुख्यतः उत्तराखंड सरकार द्वारा दिए गए थे. इसके साथ ही कई अन्य सरकारी विज्ञापन भी थे. अखबार में 12 फुल पेज और 15 हाफ पेज खबरें थीं.

3 नवंबर को अमर उजाला 22 पन्नों का प्रकाशित हुआ जिसमें पांच फुल पेज निजी और चार फुल पेज सरकारी विज्ञापन देखने को मिले. वहीं 1 सरकारी और 3 हाफ पेज प्राइवेट विज्ञापन थे. सरकारी विज्ञापन उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सरकार द्वारा जारी किया गया था.

4 नवंबर को अखबार 24 पन्नों का था जिसमें 8 फुल पेज निजी और 3 फुल पेज सरकारी विज्ञापन थे. अगर हाफ पेज विज्ञापनों की बात करें तो 4 हाफ पेज निजी और 3 हाफ पेज सरकारी विज्ञापन थे. सरकारी विज्ञापन उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से जारी किए गए थे. वहीं खबरें छह पूरे और सात आधे पन्नों पर थीं.

7 नवंबर को इस अखबार में पिछली तारीखों की तुलना में ज्यादा खबरें देखने को मिलीं. 22 पन्नों पर प्रकाशित हुए इस अखबार में दो फुल पेज और नौ हाफ पेज विज्ञापन देखने को मिले. दो फुल पेज विज्ञापनों में से एक सरकारी था. सरकारी विज्ञापनों के पूरे पन्ने पर अलग अलग सरकारी संस्थाओं द्वारा विज्ञापन दिए गए थे. इस दिन अखबार में नौ पूरे और नौ आधे पन्नों पर खबरें पढ़ने को मिलीं.

इसी तरह 8 नवंबर को भी पिछले कुछ दिनों की तुलना में ज्यादा खबरें पढ़ने को मिलीं. इस दिन 18 पन्नों के अखबार में तीन फुल पेज और पांच हाफ पेज विज्ञापन ही देखने को मिले. ये सभी विज्ञापन निजी संस्थाओं की ओर से जारी किए गए थे. इस दिन के अखबार में खबरें 10 पूरे और 5 आधे पन्नों पर पढ़ने को मिलीं. हालांकि तीन पूरे पन्ने पर खबरों वाले कुछ ऐसे भी पन्ने थे जिनमें एक-एक विज्ञापन भी देखने को मिला. साथ ही एक फुल विज्ञापन वाले पेज पर एक खबर पढ़ने को मिली.

बता दें कि अमर उजाला और दैनिक जागरण में दिवाली की छुट्टी होने के कारण 5 और 6 नवंबर को अखबार प्रकाशित नहीं हुआ था.

***

दिल्ली में गार्ड की नौकरी करने वाले 34 वर्षीय पवन बर्नवाल कहते हैं, “करीब 8-9 साल से लगातार हर दिन अखबार पढ़ रहे हैं, लेकिन अभी इतना विज्ञापन आता है कि अखबार खोलने का मन नहीं करता. कई दिन तो अब बिना अखबार पढ़े ही बीत जाता है, जबकि पहले दिनभर अखबार ही पढ़ते थे.”

दैनिक जागरण में विज्ञापन विभाग में काम करने वाले दिलीप गुप्ता कहते हैं, “अखबार में हर एडिशन का रेट और नेशनल एडिशन का रेट अलग-अलग होता है. जैसे दैनिक जागरण में लखनऊ का रेट 2,199 प्रति स्क्वायर सेंटीमीटर है. विज्ञापन का रेट सभी के लिए एक समान नहीं होता. वह आपके प्रोडक्ट, समय अवधि, संस्करण और कई अन्य चीजों से निर्धारित किया जाता है.”

द मीडिया आंट नामक वेबसाइट का उपयोग कई एड एजेंसियों के लोग विज्ञापन के रेट जानने और बुक करने के लिए करते है. इस वेबसाइट पर विज्ञापन के दिए गए रेट से हमने अखबारों के अलग-अलग संस्करणों का रेट निकाल कर अनुमान के तौर पर विज्ञापन का पता लगाया है.

एक पेज विज्ञापन से अखबार कितना कमाते हैं?

राष्ट्रीय अखबारों का पेज साइज लगभग 1,680 स्क्वायर सेंटीमीटर का होता है. दिलीप गुप्ता कहते हैं, “जागरण में पहला पेज 1,690 स्क्वायर सेंटीमीटर का होता है, बाकी पेज 1,716 स्क्वायर सेंटीमीटर के होते हैं.

इसको इस तरह देखें कि अगर आप को लखनऊ में दैनिक जागरण अखबार में एक पेज का विज्ञापन छपवाना है, तो उसके लिए आपको लगभग 36 लाख,93 हजार 320 रुपए खर्च करने होंगे. (1680 स्क्वायर सेंटीमीटर x 2199). दैनिक भास्कर के दिल्ली एडिशन का रेट 546 प्रति स्क्वायर सेंटीमीटर है, इस तरह यहां एक फुल पेज का विज्ञापन 9 लाख,17 हज़ार,280 रुपए में छपेगा. अमर उजाला के लखनऊ संस्करण का रेट 2,222 है. इस तरह से यहां एक पेज का विज्ञापन 37 लाख, 32 हजार, 960 रुपए में पड़ेगा. वहीं हिंदुस्तान के दिल्ली संस्करण में विज्ञापन का रेट 1,250 प्रति स्क्वायर सेंटीमीटर है. इस तरह एक पेज के विज्ञापन का दाम 21 लाख पड़ता है.

(रिसर्च सहयोग- तहजीब उर रहमान. ग्राफिक्स - कार्तिक और गोविंद)

Also Read :
कंगना रनौत, कंचन गुप्ता और डंकापति का दरबार
संवाद ऐसे नहीं होता प्रिय नवीन कुमार
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like