छत्तीसगढ़ हमला: दैनिक भास्कर में छपी एक्सक्लूसिव तस्वीरें निकलीं फ़िल्मी

तीन महीने पहले हुई थी माओवाद पर बन रही इस अनाम फ़िल्म की शूटिंग. अख़बार ने सफाई दी है कि वो तस्वीरों की प्रमाणिकता की "जांच" नहीं कर पाया.

छत्तीसगढ़ हमला: दैनिक भास्कर में छपी एक्सक्लूसिव तस्वीरें निकलीं फ़िल्मी
दैनिक भास्कर में प्रकाशित तस्वीरें.
  • whatsapp
  • copy

जिस फ़िल्म की यहां बात हो रही है उसका निर्देशन जगदलपुर निवासी संपत झा नामक एक फ़िल्मकार कर रहे थे. फ़िल्म के प्रोडक्शन से जुड़े एक एक्ज़ीक्यूटिव ने नाम न जाहिर होने देने की शर्त पर न्यूज़लॉन्ड्री को बताया, ''ये तस्वीरें उसी फ़िल्म की हैं जो हमने बस्तर में शूट की थीं. फ़िल्म नक्सलवाद के बारे में थी और शूटिंग के दौरान ये तस्वीरें ली गयी थीं. ये अफ़सोसजनक है कि इतने बड़े मीडिया संस्थान ने बिना जांचे-परखे उन तस्वीरों को नक्सलियों की तस्वीरों के तौर पर छाप दिया.''

तस्वीरों में जो ''माओवादी'' हैं वो दरअसल अभिनेता हैं, एग्ज़ीक्यूटिव ने आगे बताया. "आज के दौर में झूठी ख़बरे फैलाना बेहद गैर-जिम्मेदाराना हरकत है," उन्होंने कहा.

आशु तिवारी एक स्थानीय पत्रकार हैं जो फ़िल्म की शूटिंग के दौरान वहां मौजूद थे. उन्होंने न्यूज़लॉन्ड्री को बताया, "ये सभी तस्वीरें आज से करीब तीन महीने पहले जगदलपुर के जंगलों में चल रही एक फ़िल्म की शूटिंग के दौरान ली गयी थीं. पुलिस को भी इसकी जानकारी थी और डिस्ट्रिक्ट रिज़र्व गार्ड के जवानों ने भी इसमें हिस्सा लिया था. नक्सली हमले के बाद अब अचानक ये तस्वीरें वायरल हो गयी हैं और दैनिक भास्कर जैसे अख़बार जिनकी पहुंच एक बहुत बड़े पाठक वर्ग तक है, इसे बिना जांचे-परखे छाप रहे हैं.नये ख़तरनाक है."

तिवारी ने आगे कहा, "और इससे आम लोगों पर नक्सली होने का ठप्पा लग जाता है."

रिपोर्ट में कुछ वीडियोज़ का भी हवाला दिया गया था जो शनिवार को हुए इस हमले से संबंधित बतायी गयी थीं. जबकि सच्चाई ये है कि इन विडियोज़ का हमले से कोई लेना-देना नहीं है. इनमें से एक वीडियो मार्च, 2020 का है जिसमें सुकमा के मिनपा गांव में मारे गए एक माओवादी के अंतिम संस्कार के दृश्य हैं. जबकि दूसरा वीडियो तो और भी ज्यादा पुराना है और उसमें एनिमेटेड दृश्य भी हैं.

न्यूज़लॉन्ड्री ने दैनिक भास्कर के डिजिटल ऑपरेशन्स के प्रमुख प्रसून मिश्रा से उनकी इस रिपोर्ट के मामले में बात करने के लिए संपर्क किया. मिश्रा ने कहा, "मेरे द्वारा मामले का संज्ञान लिया जा चुका है. जल्दबाजी में ऐसा हो गया होगा. मैं पिछले कुछ समय से छुट्टी पर था लेकिन पक्के तौर पर इस मामले की जांच करुंगा."

रिपोर्टर अख़बार के राष्ट्रीय संपादक नवनीत गुर्जर के पास भी गये. उन्होंने कहा, "तस्वीरों की जांच-परख जरूर की जानी चाहिए थी. लेकिन मामले की कोई जानकारी न होने के कारण मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकता."

और यही असल वज़ह है कि आप पाठकों को ख़बरों को स्वतंत्र बनाये रखने के लिए भुगतान करना चाहिए. ख़बरों की रिपोर्टिंग और जांच-पड़ताल बिना किसी दबाव या पक्षपात के होनी चाहिए. स्वतंत्र पत्रकारिता की मदद कीजिये और आज ही न्यूज़लॉन्ड्री को सब्सक्राइब करिए.

Also Read :
कौन हैं वो पत्रकार जिसने प्रेस क्लब में कराया नरसिंहानंद सरस्वती का कार्यक्रम
मीडिया की आजादी से छेड़छाड़ का असर जीडीपी पर होता है- रिसर्च
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like