जी 20 समिट प्राइम टाइम: मुख्य चैनलों की एक पड़ताल

9 सितंबर को चैनलों का प्राइम टाइम जी 20 सम्मेलन के नाम रहा. 

ख़बरबाजी
  • Share this article on whatsapp

दिल्ली में आयोजित 18वें जी 20 सम्मेलन की इस बार भारत ने मेजबानी की. दिल्ली में भारत मंडपम में चले G20 सम्मेलन में चारों ओर देश की मुख्यधारा की मीडिया में बहुत शोर है. दावे किए जा रहे हैं कि इस बार इतिहास रचा गया है. इस सम्मेलन को न्यूज़ चैनल कैसे कवरेज कर रहे हैं हमने इसकी पड़ताल की है. हमने इसके लिए कुछ प्रमुख न्यूज़ चैनलों के प्राइम टाइम पर फोकस किया है.  

आज तक- ब्लैक एंड व्हाइट

आज तक पर रात नौ बजे एंकर सुधीर चौधरी ब्लैक एंड व्हाइट शो करते हैं. शो की शुरुआत में एंकर चौधरी इसे जी 20 एडिशन कहते हैं. वह कहते हैं कि आज हम जी 20 के इस एतिहासिक समिट का हर रंग दिखाएंगे. 

शो में आगे बताया जाता है कि आज भारत ने जी-20 के इतिहास में बहुत बड़ी सफलता हासिल की है. जब जी-20 के सभी देशों ने सर्वसम्मति से भारत द्वारा बनाए एजेंडे पर सहमति जताई है.आज की सबसे बड़ी उपलब्धि है कि रूस और यूक्रेन यूद्द के मुद्दे पर बिना रूस और यूक्रेन के राष्ट्रपति का नाम लिए भारत ने इस मुद्दे पर पूरी तरह से विभाजित जी-20 देशों के बीच भी एक सहमति बना दी.

एक तरफ इसी बैठक में रूस और चीन मौजूद हैं. दूसरी तरफ अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन, कनाडा जैसे नाटो देश भी हैं. जो हर कीमत पर रूस को नीचा देखाना चाहते हैं और फिर भी सभी देशों ने दिल्ली डिक्लेरेशन पर हस्ताक्षर कर दिए. 

एंकर अपने शो में मीडिया पर भी निशाना साधते हैं. कहते हैं कि अपने ही देश में पीएम मोदी के बहुत सारे आलोचक ऐसे थे जो कई दिनों से मीडिया में कहते आ रहे थे कि ये जी-20 समिट फ्लॉफ हो जाएगा और इसमें ज्वाइंट डिक्लेरेशन नहीं हो पाएगा, लेकिन हुआ इसका उल्टा. पीएम मोदी ने अपने सारे आलोचकों को बता दिया कि वो अब वैश्विक राजनीति में बहुत ही कुशल खिलाड़ी बन चुके हैं. 

चौधरी भारत बनाम इंडिया भी करते दिखते हैं. वह बताते हैं कि पीएम मोदी की मंशा क्या है? वो क्या बताना चाहते हैं? वो चाहते हैं कि दुनिया भारत को री-डिस्कवर करे. भारत की संस्कृति को पहचाने. भारत के प्राचीन इतिहास के बारे में जाने. यानी गुलामी के समय में हमारे देश को भारत से इंडिया बना दिया गया और अब पीएम मोदी इसे फिर से इंडिया से भारत बनाना चाहते हैं. 

आगे कहते हैं कि ये समिट इसलिए भी अलग है कि पीएम मोदी ने इस समिट को इंडिया का नहीं भारत का बना दिया है. इंडिया को वो वापस भारत बना रहे हैं. और इस भारत से दुनिया का परिचय करा रहे हैं. पहली बार ऐसा हुआ कि जी-20 मंच पर देश का नाम इंडिया नहीं भारत लिखा है. पीएम मोदी जहां बैठे हुए हैं वहां भी भारत लिखा हुआ है. मैं तो आप से भी ये कहूंगा आप भी यह बदलाव ला सकते हैं इसके लिए संविधान बदलने की कोई ज़रूरत नहीं है. पार्लियामेंट में जाने की ज़रूरत नहीं है. किसी से जोर-जबदस्ती करने की ज़रूरत नहीं है. यह दिल से निकलने वाली आवाज है. जैसे पीएम मोदी ने अपने और देश के जीवन में जो बदलाव किया है अगर आप चाहें तो यह बदलाव आप भी  कर सकते हैं.

इंडिया नाम एक समय में हमें अंग्रेजों ने दिया था इसलिए हम अपने मूल नाम भारत की ओर जा रहे हैं. आगे भी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर हम भारत के नाम से जाने जाएंगे. दूसरा आज हमने बड़े-बड़े नेताओं को हैलो छोड़कर नमस्ते करना सीखा दिया. सभी ने पीएम मोदी से नमस्ते किया. अब हमारा नमस्ते ग्लोबल हो गया है. क्या आपको नहीं लग रहा कि यह अमृतकाल है. 

वह एक बार फिर दोहराते हैं कि भारत में बैठे जो खलनायक हैं जो बार-बार कह रहे थे कि जी-20 फ्लॉप होगा. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. 

भारत 24- दहाड़

न्यूज़ चैनल भारत 24 पर एकंर रुबिका लियाकत रात नौ बजे दहाड़ नाम से शो करती हैं.

वह शो में कहती हैं कि विरोधी बोल रहे थे कि इस समिट से कुछ नहीं होने वाला है ऐसी कितनी भी समिट कर लें, अमेरिका, चाइना को नहीं देखेगा, चाइना रूस को देखेगा. जब तक ज्वाइंट स्टेटमेंट नहीं आ जाता तब तक सारे समिट बेकार हैं. 

लेकिन अब वैश्विक नेताओं का ज्वाइंट डिक्लेरेशन आ गया है. तस्वीर को देखकर बहुतों का मन छोटा हो जाएगा. बहुत लोग मायूस हो जाएंगे लेकिन आज बात हिंदुस्तान के बढ़ते प्रभाव की है. यह पीएम मोदी, विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनके अधिकरियों की यह सफलता है. यह उनकी मेहनत का नतीजा है कि विश्व के लगभग सभी नेता एक मंच पर आ गए हैं और ज्वाइंट डिक्लेरेशन इसका जीता-जागता सबूत है. 

वह आगे कहती हैं कि पीएम मोदी ने कई मास्टरस्ट्रोक दिए हैं. इससे पहले मोदी का असियान में जाना. और उन तमाम 10 देशों से मुलाकात करना जो दक्षिणी चीन सागर में है. फिर यहां पर अफ्रिकी संघ को जी-20 का  सदस्य बनाना. फिर अभी जो ये इकनोमिक कोरिडोर जो है. ये सबका सब लग रहा है कि चाइना के आंखों में आंखें डालकर अपना स्टैंड बताया जा रहा है.

रिपब्लिक भारत - ये भारत की बात है

रिपब्लिक भारत पर रात नौ बजे आने वाले शो 'ये भारत की बात है' के एंकर सैयद सोहेल ने शो की शुरुआत करते हुए कहा, बेहद बड़ा दिन है. भारत के लिए फक्र का दिन है, गर्व का दिन है. पूरी दुनिया के नेता दिल्ली में मौजूद हैं डिनर शुरू हो चुका है.

आगे एंकर ने बताया की भारत आज न सिर्फ पूरी दुनिया के नेता को बुला रहा है बल्कि सारे नेताओं को शाही डिनर भी दिया गया है जिसकी शुरुआत शाम सात बजे ही हो चुकी है. डिनर राष्ट्रपति मुर्मू की और से दिया गया है, जिसकी अगुवाई प्रधानमंत्री मोदी कर रहे हैं. इस डिनर में 170 लोगों को बुलाया गया है. भारत मंडपम में ग्लोबल मंथन के बाद अब खाने का स्टॉल सजा है जहां गोलगप्पे से लेकर मसालेदार चटनी के साथ चर्चा हो रही है मतलब भारत के स्वाद के साथ हो रहा है ग्लोबल संवाद.

एंकर ने किसी होटल के वेटर की तरह डिनर में परोसे जाने वाले पकवानों की लिस्ट बताई जिसे पीएम मोदी द्वारा सुझाया गया है, जो मुंह में पानी ला दे. डिनर में देशी पकवान में बिहार का लिट्टी चोखा, राजस्थान का दाल बाटी चूरमा, बंगाल का रसगुल्ला, दक्षिण भारत का उत्तपम, इडली डोसा के साथ-साथ बाकि सारे राज्यों की विशेषता से जुड़े पकवानों को शामिल किया गया है जिससे हम हिंदुस्तान की विविधता को दिखा सकें. प्रधानमंत्री द्वारा सम्मेलन में मोटे अनाज से बने पकवान का भी प्रचार किया जा रहा है.

एंकर ने आगे कहा की भारत मेहमान नवाजी में कितना आगे है जिसके आगे कोई नहीं है तैयारी करते हैं तो ऐसा करते हैं की दुनिया याद रखे. डिनर में जिन बर्तनों में खाना परोसा गया उन सोने चांदी के बर्तनों का भी जिक्र किया गया.

डिनर में यूपी  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ-साथ अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बुलाया गया. डिनर में भाजपा और गैर भाजपा राज्यों के मुख्यमंत्रियों के अलावा किसी और नेता को नहीं बुलाया गया है. कांग्रेसी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित कई अन्य लोग भी डिनर में नहीं आए हैं.

एंकर ने बताया कि सम्मेलन में पीएम मोदी द्वारा सनातन, संस्कृति और सभ्यता का प्रचार किया जा रहा है और उसे बढ़वा देने के लिए जगह-जगह उससे जुड़े प्रतीक भी लगाए हैं. इसके अलावा आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को सीआईडी द्वारा भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है जिसे लेकर तेलगु देसम पार्टी के कार्यकर्ता काफी आक्रोश में दिखे और ऐसे किसी भी आरोप से साफ इंकार किया. इस खबर को भी शो में दिखाया गया. 

न्यूज़ 18 इंडिया  

न्यूज़ 18 इंडिया का प्राइम टाइम शो G20 के नाम रहा. चैनल ने बताया कि भारत ने वो कर दिया जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी. भारत ने जी 20 आयोजन को एक ऐसे कुटनीतिक आयोजन में बदल दिया जो इसे पहले कभी नहीं देखा गया.

चैनल ने बताया कि पूरी दिनिया में सिर्फ चर्चा इसी बात की है कि इतनी आसानी से नई दिल्ली घोषणा पत्र पर सहमति कैसे बन गई. 

न्यूज़ 18 इंडिया ने अपने प्राइम टाइम शो में G20 सम्मलेन में पीएम द्वारा किए गए संबोधन और अफ्रीकन यूनियन को स्थाई तौर पर इसका हिस्सा बनाने की खबर को प्रमुखता से दिखाया. ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक के हिंदू कहने वाली बात को बार-बार बताया गया. चैनल ने रूस और यूक्रेन के युद्ध को भी प्रमुखता से दिखाया. कोविड को सफलतापूर्वक हराने और अन्य देशों को वैक्सीन देकर मदद करने का भी प्रचार किया गया. इस शो को एंकर किशोर अजवानी कर रहे थे.

टाइम्स नाउ नवभारत 

टाइम्स नाउ नवभारत ने राहुल गांधी के यूरोप में चीन का महिमामंडन करने की आलोचना करते हुए डिबेट शो किया गया. जी 20 सम्मेलन में की गई नई दिल्ली घोषणा पत्र की चर्चा को भी प्रमुखता से दिखाया गया. पीएम मोदी ने विपक्षी नेताओं को सम्मेलन में आये राष्ट्राध्यक्षों से मुलाकात कराने वाली खबर को भी दिखाया गया.

चैनल ने गेस्ट के रूप में  जी डी बख्शी (रिटायर्ड मेजर), शुभ्रास्था (राजनीतिक विश्लेषक), अवधेश कुमार (वरिष्ठ पत्रकार), प्रेम कुमार (राजनीतिक विश्लेषक), दुष्यंत नागर (राजनीतिक विश्लेषक) को शामिल किया. चैनल का प्राइम टाइम पूरी तरह से जी 20 के नाम रहा. इस शो को एंकर राकेश पांडेय होस्ट कर रहे थे. 

subscription-appeal-image

Support Independent Media

The media must be free and fair, uninfluenced by corporate or state interests. That's why you, the public, need to pay to keep news free.

Contribute
Also see
article imageरोज़नामचा: भारत-अमेरिका की द्विपक्षीय वार्ता और उपचुनावों में भाजपा का प्रदर्शन बनी आज की सुर्खियां
article imageरोज़नामचा: अमेरिकी राष्ट्रपति का आगमन और आरक्षण पर संघ प्रमुख मोहन भागवत का बयान

You may also like