अमन चोपड़ा के तीन और ज़ी न्यूज़-टाइम्स नाउ के एक-एक शो पर एनबीडीएसए ने लगाया जुर्माना

जस्टिस एके सीकरी ने एंकर अमन चोपड़ा के बयानों का जिक्र करते हुए कहा कि कुछ शरारती तत्वों की हरकतों के लिए पूरे मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाया गया था.

Article image
  • Share this article on whatsapp

टीवी समाचार प्रचारकों की निजी स्व-नियामक संस्था न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग एंड डिजिटल स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी (एनबीडीएसए) ने तीन चैनलों के अलग-अलग शो के खिलाफ फैसला सुनाया है.

न्यूज़18 के एंकर अमन चोपड़ा के पांच प्रसारणों के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी. इनमें से तीन पर एनबीडीएसए ने जुर्माना लगाया, वहीं दो पर जुर्माना तो नहीं लगा, लेकिन चैनल को चेतावनी देते हुए शो से जुड़े सभी वीडियो को हटाने का निर्देश दिया गया है.

एनबीडीएसए ने जी न्यूज़ के शो ‘ताल ठोक के’ और टाइम्स नाऊ के एक शो के खिलाफ भी फैसला सुनाया है.

न्यूज़18 इंडिया

एंकर अमन चोपड़ा की मेजबानी वाले ‘देश नहीं झुकने दूंगा’ कार्यक्रम के पांच एपिसोड को लेकर एनबीडीएसए में शिकायत की गई थी. इसमें से तीन पर जुर्माना लगाया गया है और दो के वीडियो को हटाने को कहा गया.

गुजरात के खेड़ा में गरबा कार्यक्रम में पत्थर फेंकने के आरोप में गुजरात पुलिस द्वारा कुछ युवकों की पिटाई दिखाता हुआ एक वीडियो अक्टूबर महीने में वायरल हुआ था. इस वीडियो पर न्यूज़18 के एंकर अमन चोपड़ा ने ‘देश नहीं झुकने दूंगा’ शो किया.

इस शो में एंकर ने खंभे से बांधकर पीटे जा रहे युवकों को लेकर कहा कि गुजरात पुलिस इनके साथ गरबा खेल रही है. कार्यक्रम में मुस्लिम युवकों के गरबा कार्यक्रम में जाने पर ही सवाल खड़ा कर दिया गया, और एंकर ने शो में सांप्रदायिक रंग दिया.

इस शो के खिलाफ इंद्रजीत घोरपडे और सिटीजन फॉर जस्टिस एंड पीस (सीजेपी), दोनों ने अक्टूबर 2022 में न्यूज ब्रॉडकास्टिंग एंड डिजिटल स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी (एनबीडीएसए) में शिकायत दर्ज की.

एनबीडीएसए ने इस मामले में सुनवाई करते हुए चैनल पर 25 हजार का जुर्माना लगाया है. साथ ही सभी प्लेटफॉर्म्स से वीडियो को हटाने का निर्देश भी दिया है.

कुछ उपद्रवियों की कार्रवाई के लिए पूरे मुस्लिम समुदाय की निंदा करते हुए एनबीडीएसए ने कहा कि एंकर ने कथित घटना को सांप्रदायिक रंग दिया था.

न्यूज़18 पर प्रसारित दूसरा कार्यक्रम योगी आदित्यनाथ के '80 बनाम 20' वाले बयान से संबंधित था. इस कार्यक्रम में कहा गया कि हिन्दुओं के खिलाफ उत्तर प्रदेश में महागठबंधन तैयार हो गया है और जब योगी आदित्यनाथ ने 80 बनाम 20 की बात की, तो वो सही था. 

इस प्रसारण के दौरान एंकर ने निष्पक्षता की दहलीज पार कर दी थी और कहा था कि “ये 80 के खिलाफ है महागठबंधन; और “वो कह रेलवी के उन्हें हिंदुओं से प्रॉब्लम है और वो 80 के खिलाफ हैं.”

उपरोक्त उल्लंघनों को देखते हुए एनबीडीएसए ने चेतावनी जारी करने का निर्णय लिया और प्रसारक को भविष्य में और ज़्यादा सावधानी बरतने के लिए कहा, साथ ही 50,000 रुपये का जुर्माना लगाने का फैसला किया. एनबीडीएसए ने पाया कि न्यूज़18 इंडिया पर दिनांक 18 जनवरी 2022 को प्रसारित "देश नहीं झुकने देंगे - हिंदुओं के खिलाफ" शीर्षक वाले कार्यक्रम ने आचार संहिता का उल्लंघन किया था.

तीसरा शो ‘देश नहीं झुकने देंगें’ 5 अगस्त 2022 को शाम 7:57 बजे 'गज़वा-ए-हिंद' शीर्षक से प्रसारित हुआ. इसमें भी संस्थान ने पाया कि ये कार्यक्रम एक पूरे समुदाय को बदनाम करने पर ज़ोर दे रहा था, जिसका स्लोगन था ‘बॉर्डर पे भाई जान, खतरनाक है प्लान.’

उपरोक्त कार्यक्रमों की मंशा को ध्यान में रखते हुए एनबीडीएसए ने ब्रॉडकास्टर पर 20,000 रुपये का जुर्माना लगाने का फैसला किया. एनबीडीएसए ने प्रसारक को उक्त वीडियो को हटाने का भी निर्देश दिया.

चौथा व पांचवा कार्यक्रम, जो 29 सितंबर 2022 और 28 सितंबर 2022 को प्रसारित हुआ था, उसमें भी एक विशेष समुदाय को निशाना बनाया गया था. इसी को देखते हुए एनबीडीएसए ने दोनों कार्यक्रमों के वीडियो को हटाने का निर्देश दिया है.

टाइम्स नाउ ने 24 सितम्बर 2022 को एक कार्यक्रम के दौरान एक झूठा विडियो दिखाया. इस वीडियो में “पाकिस्तान ज़िंदाबाद" कहा गया था लेकिन उसकी जगह वीडियो में ‘पीएफआई ज़िंदाबाद’ के नारे लग रहे थे. एनबीडीएसए ने चैनल को चेतावनी देते हुए कहा कि आगे से चैनल को कुछ भी ऐसा प्रसारित करने से पहले ध्यान रखना होगा, एंव इस प्रसारण से जुड़े सभी वीडियो हटाने होंगे.

(इस खबर को 2 मार्च 2023 को 8:33 PM पर अपडेट की गई है.)

subscription-appeal-image

Support Independent Media

The media must be free and fair, uninfluenced by corporate or state interests. That's why you, the public, need to pay to keep news free.

Contribute
subscription-appeal-image

Support Independent Media

The media must be free and fair, uninfluenced by corporate or state interests. That's why you, the public, need to pay to keep news free.

Contribute
Also see
article imageधमकियां, एक्सेस न होना, कम अवधि के वीजा: ये तीन सर्वे दिखाते हैं विदेशी संवाददाताओं की परेशानियां
article imageयूपी: भाजपा नेता के भाई पर मामला दर्ज, पत्रकार की गोली मारकर हत्या की साजिश का आरोप

You may also like