'बार्क के कामकाज में विश्वसनीयता पूरी तरह से खत्म हो गई'- आईटीवी नेटवर्क ने खुद को बार्क रेटिंग से किया बाहर

आईटीवी नेटवर्क ने ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े करते हुए खुद को इसकी मापन प्रणाली से बाहर कर लिया.

'बार्क के कामकाज में विश्वसनीयता पूरी तरह से खत्म हो गई'- आईटीवी नेटवर्क ने खुद को बार्क रेटिंग से किया बाहर
शामभवी ठाकुर
  • whatsapp
  • copy

एक्सचेंज फ़ॉर मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, न्यूज़ एक्स और इंडिया न्यूज़ जैसे समाचार चैनलों के मालिक आईटीवी नेटवर्क ने ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल की टीवी के दर्शकों की मापन प्रणाली से खुद को "तत्काल प्रभाव" से बाहर कर लिया है.

एक बयान में नेटवर्क ने कहा कि उसने "रेटिंग्स की विश्वसनीयता के बारे में चिंताएं जताईं थीं, लेकिन आज तक हमारी किसी भी चिंता का समाधान नहीं किया गया."

आईटीवी नेटवर्क की तरफ से जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया, '‘हम बार-बार बार्क के द्वारा इस्तेमाल की जा रही मनमानी और एकतरफा तंत्र पर अपनी चिंता जाहिर कर चुके हैं. बार्क के कामकाज में विश्वसनीयता पूरी तरह से खत्म हो गई है और कई ब्रॉडकास्टर्स के साथ-साथ हम भी बार्क से जुड़े रहने के लिए मजबूर रहे हैं, क्योंकि यह एकमात्र टीवी रेटिंग एजेंसी है और प्रमुख स्थान रखती है. बार्क की अस्पष्ट कार्रवाइयों से हमारे नेटवर्कों को बहुत नुकसान पहुंचा है."

इस साल की शुरुआत में ज़ी मीडिया और एनडीटीवी भी बार्क की रेटिंग्स से बाहर हो गए थे.

सालों से कई टीवी चैनलों, खासकर समाचार प्रसारकों ने बार्क की रेटिंग प्रणाली में गलतियों के बारे में शिकायत की है. समाचार चैनल लंबे वक्त से इन रेटिंग्स का इस्तेमाल आक्रामक रूप से अपने दर्शकों की संख्या बताने के लिए करते रहे हैं.

बता दें कि आईटीवी नेटवर्क प्रिंट प्रकाशनों और वेबसाइटों के अलावा आठ समाचार चैनलों और चार गैर-समाचार व मनोरंजन चैनलों का मालिक है. यह भारत में सबसे तेजी से विस्तार करने वाले मीडिया संस्थानों में से एक है. इस संस्थान के स्वामित्व के बारे में पढ़ने के लिए यह रिपोर्ट पढ़ें.

subscription-appeal-image

Support Independent Media

क्या मीडिया सत्ता या कॉर्पोरेट हितों के बजाय जनता के हित में काम कर सकता है? बिल्कुल कर सकता है, लेकिन तभी जब वह धन के लिए सत्ता या कॉरपोरेट स्रोतों के बजाय जनता पर निर्भर हो. इसका अर्थ है कि आपको खड़े होना पड़ेगा और खबरों को आज़ाद रखने के लिए थोड़ा खर्च करना होगा. सब्सक्राइब करें.

Also see
ज़ी मीडिया में सैकड़ों कर्मचारियों की छंटनी
मोदी, गोधरा, राहुल गांधी के बारे में गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला की बेबाक राय

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like