आपके मीडिया का मालिक कौन है: इंडिया टुडे समूह के उतार-चढ़ाव

भारत के प्रमुख मीडिया संस्थानों के स्वामित्व को उजागर करती न्यूज़लॉन्ड्री की एक सीरीज.

WrittenBy:पूजा भूला
Date:
Article image
  • Share this article on whatsapp

टीवी टुडे नेटवर्क का शेष स्वामित्व कई म्यूचुअल फंडों, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों, आर्थिक संस्थानों, बैंकों और अन्य व्यक्तियों के जरिए सार्वजनिक रूप से है. टीवी टुडे नेटवर्क के जरिए लिविंग मीडिया परोक्ष रूप से टीवी टुडे नेटवर्क बिजनेस, विबग्योर ब्रॉडकास्टिंग प्राइवेट लिमिटेड और मेल टुडे न्यूज़ पेपर्स प्राइवेट लिमिटेड की भी मालिक है, यह सभी इस टीवी कंपनी की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनियां हैं.

imageby :

लिविंग मीडिया की अन्य सहायक कंपनियों में यूनिवर्सल लर्न टुडे प्राइवेट लिमिटेड (100 प्रतिशत) और अपहिल मीडिया प्राइवेट लिमिटेड (100 प्रतिशत) भी शामिल हैं.

टीवी टुडे नेटवर्क ही लिविंग मीडिया की इकलौती मुनाफा देने वाली सहायक कंपनी है. इसकी अन्य सहायक कंपनियों में से इंटीग्रेटेड डाटा बेसिस इंडिया लिमिटेड पिछले चार सालों से औसतन तीन करोड रुपए सालाना का मुनाफा बना रही है. हालांकि टुडे रिटेल नेटवर्क प्राइवेट लिमिटेड ने भी वित्तीय वर्ष 2021 में सात लाख रुपए का लाभ देकर मुनाफा कमाना शुरू कर दिया है, लेकिन यह अभी भी नगण्य है.

लिविंग मीडिया की दो पूर्व सहायक कंपनियां - टुडे मर्चेंडाइज प्राइवेट लिमिटेड (51 प्रतिशत) और टुडे रिटेल नेटवर्क प्राइवेट लिमिटेड (51 प्रतिशत), 2017 में ज़ी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड के साथ लिविंग मीडिया का करार होने के बाद एसोसिएटेड कंपनियां बन गईं. ज़ी ने सीईओ और सीएफओ जैसे महत्वपूर्ण पदों को नामित करने के हक हासिल करने के साथ-साथ कंपनियों के काम और प्रबंधन का नियंत्रण भी अपने हाथ में ले लिया.

ज़ी ने टुडे मर्चेंडाइज प्राइवेट लिमिटेड और टुडे रिटेल नेटवर्क प्राइवेट लिमिटेड में 80 प्रतिशत हिस्सेदारी पाने के लिए इनमें और निवेश करने का वादा भी किया है. अंतत:, इन कंपनियों में ज़ी, लिविंग मीडिया और टीवी टुडे नेटवर्क की हिस्सेदारी का अनुपात 80:15:5 होगा.

समूह की प्रिंटिंग शाखा लिविंग मीडिया का राजस्व 2017 में 295.37 करोड़ से काफी ज्यादा घटकर वित्तीय वर्ष 2021 में 80.25 करोड़ ही रह गया है. हालांकि उसने वित्तीय वर्ष 2020 में 69.62 करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया लेकिन लिविंग मीडिया वर्षों से घाटे में चल रही है, वित्तीय वर्ष 2021 में उसका घाटा 3.17 करोड़ रुपए था.

कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय में फाइल किए गए आर्थिक वक्तव्य में लिविंग मीडिया ने, पिछले दशक में प्रिंट मीडिया उद्योग में गिरावट की बात कही है और इसका कारण पढ़ने में बिताए जाने वाले समय में भारी गिरावट को बताया है. इन हालात को महामारी ने और ज्यादा बिगाड़ दिया, जिसमें सबसे ज्यादा बुरी हालत 2020-21 की पहली तिमाही में रही.

हालांकि महामारी की परिस्थितियों में सुधार से कंपनी भी सुधार देख रही है और उसकी सारी उम्मीदें व आशाएं भारत में बढ़ती साक्षरता पर टिकी हैं, जो देश में पढ़ने की प्रवृत्ति और प्रिंट मीडिया की प्रगति दोनों को बल दे सकती है.

यहां ध्यान देने वाली बात है कि लिविंग मीडिया के शेयर प्रमुख तौर पर दो कंपनियों - डब्ल्यूएमपीएल (48.15 प्रतिशत) और आईजीएच होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड (41.5 प्रतिशत) और पुरी परिवार - अरुण पुरी (5.44 प्रतिशत), रेखा पुरी (1.64 प्रतिशत), अंकुर पुरी (1.09 प्रतिशत), कोयल पुरी रिंचेत (1.09 प्रतिशत) और कली पुरी भंडल (1.09 प्रतिशत) के बीच बंटी हुई है.

क्योंकि डब्ल्यूएमपीएल का मालिकाना हक पूरी तरह से पुरी परिवार के पास है, इससे लिविंग मीडिया में परिवार की कुल हिस्सेदारी 58.5 प्रतिशत हो जाती है. कली पुरी भंडल, राधिका पुरी, अनिल कुमार मेहरा और दिनेश भाटिया, लिविंग मीडिया में डब्ल्यूएमपीएल की ओर से नॉमिनी के नाते एकल हिस्सा भी रखते हैं.

साथ ही आईजीएच होल्डिंग्स, जो कि एक गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी है और लिविंग मीडिया में दूसरी सबसे बड़ी हिस्सेदारी रखती है, एस्सेल माइनिंग एंड इंडस्ट्रीज लिमिटेड के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है, जिसका मालिक आदित्य बिरला समूह है. इसको पहले टेलीकॉम बिरला होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम से जाना जाता था और इसके निदेशकों में राजश्री और नीरज बिरला शामिल हैं.

एस्सेल माइनिंग का मालिकाना हक 34 इकाइयों के पास हैं जिनमें कई कंपनियां और निजी लोग शामिल हैं. इन कंपनियों में सूर्य आभा इन्वेस्टमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड सबसे बड़ी शेयर धारक (49 प्रतिशत) कंपनी है, जिसके बाद बिरला ग्रुप होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड (19.95 प्रतिशत) का नंबर आता है. बिरला ग्रुप होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड, आदित्य बिड़ला समूह की ही एक प्रमुख होल्डिंग कंपनी है.

बिरला परिवार का एस्सेल माइनिंग में सीधा सीधा स्वामित्व 1.08 प्रतिशत है, इसमें कुमार मंगलम बिरला (0.38 प्रतिशत), नीरज बिरला (0.35 प्रतिशत), राजश्री बिरला (0.34 प्रतिशत) और मंजूश्री खेतान (0.01 प्रतिशत) हिस्सेदारी रखते हैं. खेतान आदित्य विक्रम बिरला की बहन है और कुमार मंगलम बिरला की बुआ हैं. इसमें आदित्य विक्रम कुमार मंगलम बिरला एचयूएफ (0.33 प्रतिशत) और बिरला फैमिली इन्वेस्टमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड (0.19 प्रतिशत) के जरिए भी शेयरों में हिस्सेदारी है. क्योंकि हिंदुस्तान टाइम्स की शोभना भारतीय और आदित्य विक्रम बिरला सगे चचेरे भाई बहन हैं, कुमार मंगलम बिरला भारतीय के भतीजे भी हैं.

2012 में, लिविंग मीडिया में आईजीएच की प्राथमिक हिस्सेदारी 27.5 प्रतिशत थी. उस समय आदित्य बिरला ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला ने कहा था, "निवेश के दृष्टिकोण से मीडिया का क्षेत्र, एक उभरता हुआ क्षेत्र है. मेरा मानना है कि लिविंग मीडिया इंडिया, विकास और मूल्य संवर्धन के सबसे बेहतरीन अवसरों में से एक है."

न्यूज़ मीडिया ने इस कदम को कुमार मंगलम बिरला के द्वारा मीडिया उद्योग में हिस्सेदारी पाने के सपने को साकार करने के लिए, 2003 में आदित्य बिरला समूह के इस क्षेत्र में पहली बार उतरने के बाद दूसरी कोशिश के रूप में देखा था. उस समय, समूह ने अपलॉज एंटरटेनमेंट नाम की कंपनी की शुरुआत की थी जिसने ब्लैक जैसी प्रशंसनीय फिल्म बनाई थी. लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 2009 में, आर्थिक संकट के दौरान मनोरंजन जगत में हुई हानि के बाद कंपनी निष्क्रियता में आ गई. 2017 में पूर्व बालाजी समूह के सीईओ समीर नायर को अपलॉज एंटरटेनमेंट को पुन: जीवित करने के लिए रखा गया.

2014 आते-आते खबरों में यह कयास लगाए जाने लगे थे कि बिरला लिविंग मीडिया से निकलना चाह रहे हैं. लेकिन 2018 आने तक समूह ने अपनी हिस्सेदारी बढ़ाकर 41.5 प्रतिशत कर ली. क्योंकि कंपनी लिविंग मीडिया में 20 प्रतिशत से ज्यादा की हिस्सेदारी रखती है, यह माना जा सकता है कि उसका लिविंग मीडिया में काफी रसूख है.

धन का मीटर

अगर लिविंग मीडिया आईटीजी की प्रिंट शाखा है, तो टीवी टुडे नेटवर्क निश्चय ही उसकी मल्टीमीडिया शाखा है, जो निरंतर लाभ देती है और जिस पर कोविड महामारी का भी असर नहीं पड़ा. कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय में फाइल किए गए आर्थिक रिकॉर्ड बताते हैं कि पिछले छह वर्षों में, टीवी टुडे नेटवर्क का खुद का लाभ ही दोगुने से भी ज्यादा बढ़ गया है- 2016 में 61 करोड़ रुपए से बढ़कर 2021 में 131 करोड़ रुपए.

टीवी टुडे नेटवर्क के राजस्व का बड़ा हिस्सा उसके टेलीविजन शाखा से आता है जिसमें निरंतर बढ़ोतरी हुई है, वित्तीय वर्ष 2017 में 564 करोड़ रुपए से वित्तीय वर्ष 2020 में 699 करोड़ रुपए, और वित्तीय वर्ष 2021 में 646 करोड़ रुपए.

दूसरी तरफ उसका रेडियो व्यवसाय वर्षों से घाटे में है, जिसका वित्तीय वर्ष 2021 में घाटा 18.60 करोड़ रुपए था. टीवी टुडे नेटवर्क अपने रेडियो व्यापार को एंटरटेनमेंट नेटवर्क इंडिया लिमिटेड को बेचने का मार्ग प्रशस्त कर रहा है, जो मिर्ची ब्रांड के अंतर्गत अपना रेडियो खंड चलाता है और टाइम्स इन्फोटेनमेंट मीडिया लिमिटेड की एक सहायक कंपनी है. टाइम्स इन्फोटेनमेंट मीडिया लिमिटेड - बैनेट, कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड की एक होल्डिंग कंपनी है.

2017 में टीवी टुडे नेटवर्क ने लिविंग मीडिया के डिजिटल व्यापार के कार्यकारी हिस्से को भी अपने नियंत्रण में ले लिया. इतना ही नहीं, अपने शुरुआती दिनों की मेल टुडे न्यूज़ पेपर्स प्राइवेट लिमिटेड में आठ प्रतिशत हिस्सेदारी को बढ़ाकर, टीवी टुडे नेटवर्क ने लिविंग मीडिया और एएन (मॉरीशस) से बिना किसी आर्थिक भुगतान या मुफ्त में "उपहार" स्वरूप, इसमें बची हुई 92 प्रतिशत हिस्सेदारी भी ले ली.

जैसा कि फाइनेंशियल स्टेटमेंट्स में बताया गया है, मेल टुडे के घाटे में होने के बावजूद भी टीवी टुडे नेटवर्क उसे "अत्यधिक मूल्यवान" और "रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण" मानता है क्योंकि वह "दिल्ली में प्रकाशित होने वाला एक खास अखबार" है, जिसके पत्रकारों का तंत्र नया कंटेंट लाता है. पूरी तरह से समूह के मालिकाना हक वाले मेल टुडे में टीवी टुडे नेटवर्क की सीधी हिस्सेदारी 48.99 प्रतिशत है, और 51.01 प्रतिशत हिस्सेदारी इंडिया टुडे ऑनलाइन प्राइवेट लिमिटेड नाम की निवेश कंपनी के जरिए है, जो मेल टुडे की एक होल्डिंग कंपनी है और पूरी तरह से टीवी टुडे नेटवर्क के स्वामित्व में आने वाली सहायक कंपनी है.

इस खरीद के बाद मेल टुडे के मूल्यांकन में 2018 में सात करोड़ रुपए की गिरावट और 2019 में चार करोड़ रुपए की गिरावट आई - जिसे आर्थिक स्टेटमेंट्स में असाधारण कहा गया. 2019 में, मेल टुडे, इंडिया टुडे ऑनलाइन प्राइवेट लिमिटेड और टीवी टुडे नेटवर्क को मिलाने की व्यवस्था को मंजूरी दी गई. इस व्यवस्था के अंतर्गत, मेल टुडे को प्रकाशन से अलग कर टीवी टुडे नेटवर्क में संलग्न कर दिया जाएगा, वहीं इंडिया टुडे ऑनलाइन प्राइवेट लिमिटेड को साथ जोड़ दिया जाएगा. उसके बाद से अखबार का प्रकाशन लंबित है, लेकिन उसके कंटेंट को डिजिटल रूप से प्रकाशित किया जाता है.

इस प्रक्रिया में, टीवी टुडे नेटवर्क का डिजिटल व्यवसाय जो 2016 तक मात्र 3.22 करोड रुपए ही बना पाया था, उसका दूसरा सबसे बड़ा आय का साधन बन गया है. 2017 में अपने उपक्रमों से 45 करोड़ रुपए कमाने से शुरुआत करके 2021 में तीन गुना बढ़कर 130 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है. इतना ही नहीं 2021 में मार्च से दिसंबर के नौ‌ महीनों की आय वित्तीय वर्ष 2020-21 की कुल कमाई से तीन प्रतिशत ज्यादा थी.

यह रिपोर्ट प्रकाशित होने तक, टीवी टुडे नेटवर्क का बाजार में कद 1619.41 करोड़ पहुंच गया था.

ग्राफिक्स- वीबी गोबिंद.

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)

Also see
article imageउबर-टाइम्स इंटरनेट के संबंध मीडिया जगत में किस बदलाव की ओर इशारा करते हैं
article imageहम मीडिया पर रिपोर्ट क्यों करते हैं?

You may also like