इजरायल- फिलिस्तीन के टकराव में अल जज़ीरा की एक पत्रकार की मौत

वर्ष 2000 से इजरायल- फिलिस्तीन के टकराव में अब तक 50 पत्रकारों की मौत हो चुकी है.

Article image
  • Share this article on whatsapp

कतर के समाचार चैनल अल जज़ीरा की वरिष्ठ पत्रकार शिरीन अबू अक्लेह की इजरायली सेना के एक ऑपरेशन में गोली लगने से मोत हो गई है. 51 वर्षीय शिरीन अबू अक्लेह, इजरायल के कब्जे वाले वेस्ट बैंक के उत्तर में जेनिन शरणार्थी शिविर पर इजरायली सेना की छापेमारी को कवर कर रही थीं जब उनके सर में गोली लग गई.

फिलिस्तीन के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अबू अक्लेह के सिर में एक गोली लगी और उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई.

subscription-appeal-image

Support Independent Media

The media must be free and fair, uninfluenced by corporate or state interests. That's why you, the public, need to pay to keep news free.

Contribute

अल जज़ीरा की खबर के मुताबिक एक अन्य फिलिस्तीनी पत्रकार, अली अल-समौदी की पीठ में गोली लगी है हालांकि उनकी हालत अब स्थिर है. घटना के वीडियो फुटेज में, अबू अक्लेह को नीले रंग की फ्लैक जैकेट पहने देखा जा सकता है, जिस पर स्पष्ट रूप से "प्रेस" शब्द लिखा हुआ है.

एक बयान में अल जज़ीरा मीडिया नेटवर्क ने कहा कि अबू अक्लेह की हत्या अंतरराष्ट्रीय कानूनों और मानदंडों का उल्लंघन करने वाली है, और हम इस जघन्य अपराध की निंदा करते हैं, जिसके माध्यम से मीडिया को अपने संदेश को पूरा करने से रोका जा रहा है.

बयान में कहा गया है कि "हम दिवंगत सहयोगी शिरीन की हत्या के लिए इजरायली सरकार और कब्जे वाली ताकतों को जिम्मेदार ठहराते हैं."

अल जज़ीरा मीडिया नेटवर्क ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आह्वान किया कि अबू अक्लेह की "टारगेट किलिंग" के लिए इजरायली कब्जे वाले बलों को जवाबदेह ठहराया जाए.

गौरतलब है कि वर्ष 2000 से अब तक इजरायल- फिलिस्तीन के टकराव में 50 पत्रकारों की मौत हो चुकी है.

Also see
article imageकैंसर से हारने वाले पत्रकार पवन जायसवाल ने कहा था- 'अभी बहुत कुछ करना है बचा लीजिए'
article imageमीडिया ट्रायल का दंश: दिशा सालियान के परिवार की कहानी

You may also like