दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से कितने लोगों की मौत हुई इसकी अब तक जानकारी नहीं

मई 2021 में दिल्ली सरकार ने कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी से मरे लोगों की जानकारी इकठ्ठा करने के लिए एक कमेटी का गठन किया था.

   bookmark_add
दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से कितने लोगों की मौत हुई इसकी अब तक जानकारी नहीं
  • whatsapp
  • copy

एक दूसरे वरिष्ठ डॉक्टर कहते हैं, ‘‘अभी तो हम जांच के तौर-तरीके पर चर्चा कर रहे हैं. यानी कि हमें किस हिसाब से जांच करनी है उसपर बात कर रहे हैं. अब तक चार-पांच मीटिंग हो चुकी हैं.’’

कब तक रिपोर्ट आ सकती है. इस सवाल पर वे कोई स्पष्ट जवाब नहीं देते हैं. बाकी डॉक्टर भी इसी तरह की बात करते नजर आते हैं.

कमेटी के ज्यादातर सदस्य दिल्ली निदेशालय के मेडिकल सुप्रीडेंडेट आरएन दास से बात करने का सुझाव देते हैं. कमेटी के एक सदस्य दास का नंबर साझा करते हुए कहते हैं वे ही इसको लेकर पूरी जानकारी दे सकते हैं.

पूर्व में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री के ओएसडी रहे दास से न्यूज़लॉन्ड्री ने संपर्क किया. दास इस कमेटी को लेकर किसी भी तरह की जानकारी होने से इंकार करते हैं. वे बताते हैं, ‘‘मैं उस कमेटी से किसी भी रूप में नहीं जुड़ा हूं. ऐसे में मुझे कोई जानकारी कैसे होगी.’’

ऐसे में सवाल उठता है कि जब कमेटी ने अब तक कोई रिपोर्ट ही नहीं दी है तो क्या किसी पीड़ित परिवार को मुआवजा मिला. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन भी मानते हैं कि दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से मौत हुई हैं. इसको लेकर हमने स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन से बात करने की कोशिश की हालांकि उनसे बात नहीं हो पाई. हमने उन्हें कुछ सवाल मेल किए हैं, अगर जवाब आता है तो उसे खबर में जोड़ दिया जाएगा.

न्यूज़लॉन्ड्री ने जैन के ओएसडी पवन कुमार से भी फोन पर बात की. कुमार ने कहा, ‘‘इसकी जानकारी मेरे पास नहीं है. आप प्रिंसिपल सेक्रेटरी मनीषा सक्सेना से बात कर सकते है.वहीं इसको लेकर जानकारी दे सकती हैं.’’

हमने मनीषा सक्सेना के पीएस से भी बात की. उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन को लेकर हुई मौत की जानकारी स्पेशल सेक्रेटरी उदय प्रकाश राय दे सकते हैं. वहीं इस मामले को देख रहे हैं. राय से इस मामले पर जानकारी के लिए हमने फोन किया, लेकिन बात नहीं हो पाई. हमने इन्हें भी सवाल भेजे हैं. अगर जवाब आता है तो खबर से जोड़ दिया जाएगा.

‘सरकार नहीं देगी जवाब’

जब उपराज्यपाल पर जांच रोकने का आरोप लगाते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा था कि यह सत्य है कि लोगों की ऑक्सीजन की कमी से मौत हुई है. यानी की सरकार यह मानती है लेकिन अब तक मृतकों की जानकारी इकठ्ठा नहीं कर पाई है.

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान सीमापुरी के श्मशान घाट पर देर रात तक लोगों का अंतिम संस्कार हो रहा था. यहां लोगों की मदद करने वाले भाजपा नेता जीतेन्द्र सिंह शंटी बताते हैं, ‘‘दूसरी लहर के दौरान हमने एक दिन में 150 तक शव का अंतिम संस्कार किया है. यह सिलसिला कई दिनों तक चला था. हमारे यहां जितने भी शव आए उसमें 95 प्रतिशत ऑक्सीजन की कमी के कारण मरे थे. यह हमें मृतकों के परिजनों द्वारा बताया जाता था.’’

नई सीमापुरी के रहने वाले सैयद युसूफ को भी दूसरी लहर के दौरान कोरोना हुआ था. जिससे उबरने के बाद उन्होंने दो बार प्लाज्मा डोनेट किया था. कुछ ही दिनों बाद उनकी मां सेफाली बेगम कोरोना की चपेट में आई गईं.

सैयद कहते हैं, ‘‘मेरी मां को किसी भी अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया. यमुना स्पॉट्स काम्प्लेक्स में सिर्फ वीआईपी को ले रहे थे. समान्य लोगों को नहीं ले रहे थे. हम दिनभर राजीव गांधी और जीटीबी घूमते रहे लेकिन कहीं भर्ती नहीं किया. उन्होंने घर पर ही 25 अप्रैल को ऑक्सीजन की कमी के कारण दम तोड़ दिया.’’

युसूफ को सरकार की तरफ से 50 हजार का मुआवजा मिला है. हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि यह मुआवजा सुप्रीम कोर्ट के आदेश- “कोरोना से मरे लोगों के परिजनों को 50 हजार रुपए दिया जाए” वाला है या दिल्ली सरकार ने दिया है. दरअसल दिल्ली सरकार भी मुख्यमंत्री कोविड-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना के तहत कोरोना से मरे हरेक मृतक के परिजनों को 50 हजार रुपए की आर्थिक मदद देती है.

भाजपा विधायक और विधानसभा में पूर्व नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने न्यूज़लॉन्ड्री को बताया, ‘‘इस सरकार ने खुद ही कहा था कि ऑक्सीजन की कमी से कोरोना के दौरान लोगों की मौत हुई है लेकिन अब आंकड़े नहीं बता रही है. आने वाले समय में भी इसको लेकर मैं सवाल करूंगा. कमेटी के नाम पर आंकड़ों को छुपाया जा रहा है.’’

कई राज्यों ने कहा ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई मौत

एक तरफ जहां दिल्ली सरकार के पास अभी तक ऑक्सीजन से हुई मौतों का आंकड़ा नहीं है. वहीं कई राज्यों ने तो यह तक कह दिया कि प्रदेश में किसी की भी ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं हुई है.

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने फरवरी महीने में राज्यसभा में बताया था कि कुछ राज्यों ने इस संबंध में डाटा उपलब्ध कराया है जिसमें ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत होने से इनकार किया गया है.

ऐसे राज्यों में उत्तर प्रदेश भी एक है. विधान परिषद में एक सवाल के जवाब में प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया था, ‘‘यूपी में ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं हुई है.’’ हालांकि न्यूज़लॉन्ड्री ने उत्तर प्रदेश हो या दिल्ली इन जगहों पर ऑक्सीजन से हुई मौतों को लेकर रिपोर्ट की थीं.

भारत में कोरोना के कारण पहली, दूसरी और तीसरी लहर के दौरान 9 मार्च 2022 तक 5 लाख 15 हजार 355 लोगों की मौत हुई है.

Also see
कोरोना महामारी के बीच 17 महीनों में दिल्ली सरकार ने विज्ञापन पर खर्च किए 490 करोड़
दिल्ली में 104 करोड़ रुपए के तिरंगा झंडा लगवा रही केजरीवाल सरकार

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like