क्या सर गंगाराम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से हुई कोरोना मरीजों की मौत?

गुरुवार को दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल से खबर आई कि तकरीबन 25 कोरोना मरीजों की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण हो गई. हालांकि अस्पताल प्रशासन ने इससे इनकार किया है. न्यूजलॉन्ड्री ने इस पूरी घटना की पड़ताल की है.

क्या सर गंगाराम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से हुई कोरोना मरीजों की मौत?
  • whatsapp
  • copy

‘अस्पताल वालों ने साफ साफ कुछ नहीं बताया’

अशोक विहार के रहने वाले 68 वर्षीय बृजभूषण भूटानी की भी मृत्यु 23 अप्रैल की सुबह हो गई. उनका अंतिम संस्कार 23 को पंचकुइया श्मशान घाट में हुआ. न्यूज़लॉन्ड्री ने उनके बेटे अचल भुटानी से बात की. इसको लेकर भुटानी कहते हैं, ‘‘हमें अस्पताल वालों ने कुछ बताया नहीं है. उनका ऑक्सीजन लेवल कम तो हो रहा था, लेकिन ऐसा होगा हमें अंदाजा नहीं था.’’

भुटानी आगे बताते हैं, ‘‘हम उन्हें बुधवार को लेकर अस्पताल गए. तब उनका ऑक्सीजन लेवल 80 के करीब था. अगले दिन वह 60 के आसपास हो गया. ऐसे में मैं क्या बता सकता हूं कि किस कारण उनका निधन हुआ. अस्पताल वालों ने साफ-साफ जानकारी अब तक नहीं दी है.’’

वह अस्पताल कर्मचारियों के साथ-साथ श्मशान घाट के कर्मचारियों के असंवेदनशील रवैये से बेहद दुखी नजर आते हैं. वे कहते हैं, ‘‘उनपर दबाव है लेकिन उन्हें समझना चाहिए कि जो यहां आ रहा है वो किसी अपने को खोकर आ रहा है. टोकन बनाते हुए दस कागजों की मांग करते हैं. फोन पर बात करने लगते हैं. आपस में बात करते रहते हैं. हंसते रहते हैं. हमें पांच छह घंटे लग गए. सोचिए पीपीई किट में पांच छह घंटे रहना कितना मुश्किल है. उनको थोड़ा संवेदनशील होना चाहिए.’’

गुरुवार को ही कुसुम चोपड़ा के पिता गुलजारी लाल चोपड़ा का निधन गंगाराम अस्पताल में हो गया. 80 वर्षीय चोपड़ा कोरोना पॉजिटिव थे. उनका अंतिम संस्कार 23 अप्रैल को किया गया. ये भी उन 25 लोगों में से थे जिनकी मौत 24 घंटे के दौरान हुई थी.

न्यूजलॉन्ड्री से बात करते हुए कुसुम कहती हैं, ‘‘हमें जो अस्पताल वाले बताएंगे हमें उसकी ही जानकारी होगी. हम उनकी ही बात पर ही भरोसा करेंगे. हमें अस्पताल वालों ने बोला कि वे वेंटिलेटर पर थे. पर वहां वे बेहतर नहीं हो पाए. बस इतना ही बताया. पिताजी की तबीयत तो हर दिन खराब हो ही रही थी. पहले सांस नहीं ले पा रहे थे. फिर किडनी की भी परेशानी हो गई. निमोनिया भी हो गया था. हालांकि मौत किस कारण हुई यह तो हम नहीं बता सकते क्योंकि हम डॉक्टर तो है नहीं.’’

कुसुम कहती हैं, ‘‘कोविड टेस्ट कराने से दस दिन पहले से उनकी तबीयत खराब थी. उनको गंगाराम में 18 अप्रैल को लेकर गए. उससे पहले वे किसी और अस्पताल में थे. वहां भी हालात ठीक नहीं थी. दरअसल जब उन्हें 10 दिन पहले बुखार और जुकाम हुआ तो हमने टेस्ट कराने के लिए बोला हालांकि उन्होंने तब कहा कि मुझे सामान्य बुखार-जुकाम हुआ है. मैं ठीक हो जाऊंगा. वे बाहर नहीं जाते थे तो उनको लग रहा था कि उनको कोरोना होगा ही नहीं. फिर जब ज़्यादा तबीयत खराब हुई तो हम लेकर गए. ऐसे में अस्पताल को दोष देने का क्या फायदा.’’

इसी तरह हमने कुछ और मरीजों के परिजनों से बात की. सबका कहना लगभग एक जैसा ही है कि मृत्यु क्यों हुई इसकी सही जानकारी डॉक्टर और अस्पताल कर्मचारी ही दे सकते हैं. हमें कोई कारण तो अस्पताल प्रशासन द्वारा बताया नहीं गया. हमने तो अपनों को खो दिया.

जहां परिजन कह रहे हैं कि वास्तविक स्थिति प्रशासन ही बता सकता है वहीं अस्पताल प्रशासन बात करने को तैयार नहीं है.

ऑक्सीजन के लिए भागता शहर

कोरोना के दूसरी लहर में मरीजों की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण हो रही है. मरीज जहां अस्पतालों में सांस लेने से जूझ रहे हैं वहीं परिजन बाहर ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए इधर-उधर भटक रहे हैं. कई जगहों से ऑक्सीजन के ब्लैक में बेचे जाने की खबरें लगातार आ रही है.

दिल्ली के ज़्यादातर अस्पतालों में कुछ घंटों के लिए ही ऑक्सीजन बचा हुआ है. शुक्रवार को जयपुर गोल्डन अस्पताल में 20 मरीजों की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण हो गई जिसकी जानकारी अस्पताल प्रशासन ने ही दी है.

इसी बीच केंद्र सरकार ने दिल्ली में ऑक्सीजन का कोटा बढ़ा दिया है. मुख्यमंत्री केजरीवाल के मुताबिक दिल्ली को पहले केंद्र सरकार से 378 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिलता था जिसे बढ़ाकर सरकार ने 480 मीट्रिक टन कर दिया लेकिन अभी बढ़ा हुआ ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है. जिस कारण मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है और उनकी मौत हो जा रही है.

पंचकुइया श्मशान घाट पर अपनी मौसी के पति का अंतिम संस्कार करने राजीव सिंह पहुंचे हुए थे. ऑक्सीजन की कमी के कारण वो अब तक तीन रिश्तेदारों को खो चुके हैं. न्यूज़लॉन्ड्री से बात करते हुए कहते हैं, ‘‘आदमी की कोई औकात नहीं रह गई है. सरकार हवा तक दे नहीं पा रही है. इस सरकार से किसी और चीज की क्या ही उम्मीद करें.’’

Also Read :
कोविड का कोहराम: शोक संदेशों से पटे गुजराती अखबार
उत्तर प्रदेश की स्वास्थ्य सेवा के मलबे में दबी गई पत्रकार विनय श्रीवास्तव की मौत
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like