पुस्तक समीक्षा: उपन्यास 'खेला' जिसमें कमोबेश हर भारतीय का बचपन गुजरता है

‘खेला’ विश्व बाजार की राजनीति के छल प्रपंच और इंसानों के आंतरिक और बाह्य संघर्ष का एक कोलाज है जिसे पढ़ा जाना चाहिए.

पुस्तक समीक्षा: उपन्यास 'खेला' जिसमें कमोबेश हर भारतीय का बचपन गुजरता है
  • whatsapp
  • copy

कहानी में वरा कुलकर्णी बुडापेस्ट पहुंचती है और उसी समय पेरिस पर हमला होता है. इससे पेरिस ही नहीं, बल्कि दूसरे देशों के आपसी और बाहरी समीकरण बदल जाते हैं और यूरोप में प्रवासियों को शक से देखने की निगाह और गहरा जाती है. इसी पृष्ठभूमि में वरा कुलकर्णी की मुलाकात टिम नामक शख्स से होती है जिसकी हर मुलाकात में कुछ नई पहचान निकल कर सामने आती है. वरा कुलकर्णी, मिसेज गोम्स और टिम का तिकोन उलझा हुआ है और यह ऊहापोह, तीसरी दुनिया की अगुवाई करते सीरिया बनाम विकसित देशों के बीच की पैंतरेबाजी की पृष्ठभूमि पर और खिल कर निखरती है.

वरा कुलकर्णी तथाकथित शोषक और शोष्य दोनों पक्षों का शिकार बनती सी दिखती है पर जैसा कि इस उपन्यास में जो दिखता है वह हो नहीं रहा होता, वह दोनों पक्षों से अपने तरीके से भिड़ती है. यानी मैदान प्रतिपक्षियों के पर शर्तें उसकी अपनी. ‘खेला’ को आख्यान की सिद्ध वर्णन कला और विरल सृजनात्मक भाषा के लिए भी पढ़ा जाना चाहिए. उक्त दोनों ही यहां जीवन, विचार, कला के सम्मिलित धागों से निर्मित हुए हैं और इनकी एक बेहतर पुनर्रचना तैयार कर सकते हैं.

उपन्यास के आखिरी हिस्से में एक अलहदा सी संभावना खुलती है जब अपने अलग-अलग संघर्ष के मैदानों को लांघ कर आई चार पांच स्त्रियां एक फ्रेम में आ जाती हैं. उनकी आपसी सिंफनी स्त्री विवेक के बहुत अलग-अलग रंगों को एक साथ ले आती हैं जिनसे एक नए ढंग का पाठ तैयार होता है जो संघर्ष, श्रम और उम्मीद की जमीन पर खड़ा है.

उपन्यास के मुख्य पात्र ही नहीं बल्कि हर छोटे बड़े पात्र अपने चुनाव की आजादी के लिए बहुत सजग हैं. उपन्यास की भाषा कहानी की लेयर्ड जटिलता को थाम कर चलती है. कथानक बार-बार अतीत और वर्तमान, यथार्थ और कल्पना, उचित और अनुचित के बीच आवाजाही करता है. इसलिए इसे पढ़ते हुए पाठकीय धैर्य की जरूरत है.

‘खेला’ विश्व बाजार की राजनीति के छल प्रपंच और इंसानों के आंतरिक और बाह्य संघर्ष का एक कोलाज है जिसे पढ़ा जाना चाहिए. संक्षेप में ‘खेला’ के बारे में कह सकते हैं: एक महत्वपूर्ण उपन्यास जिसमें अभिव्यक्त खुशियां, त्रासदियां असह्य, बेधक और बेचैन करने वाली हैं फिर भी पाठक उनकी गिरफ्त में बने रहना चाहेगा.

नीलाक्षी सिंह का परिचय, जन्म, 17 मार्च 1978, हाजीपुर, बिहार, प्रकाशन : परिंदे का इंतजार सा कुछ, जिनकी मुट्ठियों में सुराख था, जिसे जहां नहीं होना था, इब्तिदा के आगे खाली ही (कहानी संग्रह); शुद्धिपत्र, खेला (उपन्यास) सम्मान : रमाकांत स्मृति सम्मान, कथा सम्मान, साहित्य अकादेमी स्वर्ण जयंती युवा पुरस्कार, प्रो. ओमप्रकाश मालवीय एवं भारती देवी स्मृति सम्मान और कलिंग बुक ऑफ बुक ऑफ द इयर 2020-21.

पुस्तक का नाम - खेला द्वारा नीलाक्षी सिंह

मूल्य- 370 रुपए

प्रकाशक- सेतु प्रकाशन

(समीक्षक आशुतोष कुमार ठाकुर बैंगलोर में रहते हैं. पेशे से मैनेजमेंट कंसलटेंट हैं और कलिंगा लिटरेरी फेस्टिवल के सलाहकार हैं.)

Also Read :
रामभक्त रंगबाज़: हिंदी पट्टी की कायर खामोशी को तोड़ता है राकेश कायस्थ का यह उपन्यास
उपन्यास "सूखा बरगद" में परिलक्षित होती मंज़ूर एहतेशाम की व्याकुलता
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like