हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में खींचतान, राज्यपाल पर राजनीति करने का आरोप

राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने पत्रकारिता विश्वविद्यालय में भर्ती के बाद अब बोर्ड बैठक पर भी रोक लगा दी है.

हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में खींचतान, राज्यपाल पर राजनीति करने का आरोप
  • whatsapp
  • copy

राजस्थान के जयपुर स्थित हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. दरअसल पत्रकारिता विश्वविद्यालय में भर्ती के बाद अब बोर्ड बैठक पर भी रोक लगा दी गई है. विश्वविद्यालय की ओर से निकाली गईं 24 पदों की भर्तियों को राज्यपाल कलराज मिश्र ने स्थगित कर दिया. पूर्व शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने विश्विद्यालय में की जा रही इन भर्तियों को लेकर राज्यपाल को लिखित में शिकायत दी थी, जिसके बाद इन भर्तियों पर रोक लगा दी गई. यही नहीं राज्यपाल कलराज मिश्र ने कुलपति के नीतिगत निर्णय लेने पर भी रोक लगा दी है. उनका तर्क है कि कोई भी कुलपति जिनका कार्यकाल अल्पावधि का शेष रह जाता है, वे नीतिगत निर्णय नहीं ले सकते हैं. बता दें कि हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति ओम थानवी हैं जिनकी सेवानिवृत्ति में कुछ दिन ही शेष रह गए हैं.

यहां से शुरू हुआ विवाद अब थमने का नाम नहीं ले रहा है. पत्रकारिता विश्वविद्यालय बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट के सदस्य और कांग्रेस विधायक संयम लोढ़ा ने राज्यपाल कलराज मिश्र की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए हैं.

लोढ़ा न्यूज़लॉन्ड्री से कहते हैं, "विधिक तरीके से जो कमेटी बनी है उसको भी काम नहीं करने दे रहे हैं. विश्विद्यालय यूनिवर्सिटी एक्ट के तहत चलता है. जो भर्तियां निकाली गई हैं उन्हें आप रोक ही नहीं सकते, क्योंकि वह एक नियम के तहत निकाली गई थीं. आप पुनर्विचार के लिए सजेस्ट यानि परामर्श कर सकते हैं, लेकिन उन पर रोक नहीं लगा सकते. क्योंकि कानून में और यूनिवर्सिटी एक्ट में ऐसा कोई प्रावधान ही नहीं है."

वह आगे कहते हैं, "राज्यपाल ने बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट की बैठक पर रोक लगा दी है. आधार बनाया गया है कि विधानसभा का सत्र चल रहा हो तो उससे दो- तीन दिन पहले मीटिंग नहीं रख सकते हैं. जबकि संसदीय कार्य विभाग का आदेश है, जिसमें साफ लिखा हुआ है कि अगर विधायक मीटिंग के लिए कहते हैं तो मीटिंग कर सकते हैं. यह बैठक 21 फरवरी को होनी थी."

वहीं इससे पहले हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति ओम थानवी ने फेसबुक पर लिखा था - “विश्वविद्यालय में मेरा कार्यकाल मार्च के पहले हफ्ते तक है. समझ सकता हूं कि एक-दो भाजपा नेता अचानक सक्रिय होकर ऐसे बयान क्यों देने लगे, जिनका न सिर है न पैर. जो बातें तीन वर्ष में नहीं सूझीं, उन्हें अब कल्पना के सहारे उछाल रहे हैं. उन्हें कौन शह दे रहा है और क्यों, यह मैं वक्त आने पर बताऊंगा.”

जी राजस्थान की खबर के मुताबिक, हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय की ओर से 4 दिसंबर 2021 को 5 प्रोफेसर, 9 एसोसिएट प्रोफेसर, 9 असिस्टेंट प्रोफेसर और असिस्टेंट लाइब्रेरियन के 1 पद के लिए भर्तियां निकाली गई थीं. जिन्हें अब राज्यपाल द्वारा स्थगित कर दिया गया है.

Also see
क्यों मीडिया को राहुल के भाषण में 'दूसरे भारत' की ओर ध्यान देना चाहिए?
पंजाब: सोशल मीडिया का बेजा इस्तेमाल कर ‘जिंदगी को जहन्नुम’ बनाने वाला यूएपीए कानून

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like