कॉप 26: जलवायु संकट और सेहत से जुड़ी चिंताओं से निपटने के दस सूत्र

डब्ल्यूएचओ ने सरकारों को विभिन्न क्षेत्रों में जलवायु परिवर्तन से निपटने, स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने और जलवायु संकट के सबसे खराब स्वास्थ्य प्रभावों से बचने के लिए 10 सिफारिशें की हैं.

Byदयानिधि
कॉप 26: जलवायु संकट और सेहत से जुड़ी चिंताओं से निपटने के दस सूत्र
  • whatsapp
  • copy

डब्ल्यूएचओ की जलवायु और स्वास्थ्य को लेकर सिफारिशें

कॉप 26 रिपोर्ट में 10 सिफारिशें शामिल हैं जो अंतरराष्ट्रीय जलवायु व्यवस्था और सतत विकास एजेंडा में स्वास्थ्य और इक्विटी को प्राथमिकता देने हेतु सरकारों के लिए तत्काल आवश्यकता और कई अवसरों को उजागर करती हैं.

1. स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रतिबद्ध होना. कोविड-19 से उबरने, पर्यावरण को बनाए रखने लिए प्रतिबद्ध होना.

2. स्वास्थ्य के साथ किसी तरह का समझौता मान्य नहीं होगा. स्वास्थ्य और सामाजिक न्याय को संयुक्त राष्ट्र जलवायु वार्ता के केंद्र में रखना.

3. जलवायु संबंधी कार्रवाई से स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाना. सबसे बड़े स्वास्थ्य, सामाजिक और आर्थिक लाभ के साथ उन जलवायु हस्तक्षेपों को प्राथमिकता देना.

4. जलवायु से संबंधित खतरों का स्वास्थ्य पर असर न पड़े ऐसी रणनीतियां बनाना. जलवायु अनुकूल और पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊ स्वास्थ्य प्रणालियों और सुविधाओं का निर्माण करना और सभी क्षेत्रों में स्वास्थ्य को महत्व देना.

5. ऊर्जा प्रणालियों का निर्माण करना जो जलवायु और स्वास्थ्य की रक्षा और सुधार करें. विशेष रूप से कोयले के जलने से होने वाले वायु प्रदूषण से लोगों की जान बचाने के लिए अक्षय ऊर्जा की ओर न्यायोचित और समावेशी मार्गदर्शन करना. घरों और स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं में ऊर्जा की कमी को दूर करना.

6. शहरी वातावरण में परिवहन संबंधी सुविधाओं पर बेहतर करना. बेहतर भूमि का उपयोग, सार्वजनिक स्थान तक पहुंच और चलने, साइकिल चलाने और सार्वजनिक परिवहन के लिए प्राथमिकता के साथ टिकाऊ, स्वस्थ शहरी डिजाइन और परिवहन प्रणालियों को बढ़ावा देना.

7. प्रकृति को हमारे स्वास्थ्य की नींव के रूप में संरक्षित और पुनर्स्थापित करना. प्राकृतिक प्रणालियों की रक्षा करना और उन्हें पुनर्स्थापित करना, स्वस्थ जीवन की नींव, स्थायी खाद्य प्रणाली और आजीविका सुनिश्चित करना.

8. स्वस्थ, टिकाऊ और जलवायु से निपटने वाली खाद्य प्रणालियों को बढ़ावा देना. टिकाऊ और लचीला खाद्य उत्पादन और अधिक किफायती, पौष्टिक आहार को बढ़ावा देना जो जलवायु और स्वास्थ्य दोनों परिणामों को प्रदान करता हो.

9. जीवन बचाने के लिए एक स्वस्थ, बेहतर और पर्यावरण के अनुकूल भविष्य के लिए धन प्रदान करना. एक अच्छी अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ना.

10. स्वास्थ्य पर काम करने वाले लोगों के विचारों पर अमल करना और तत्काल जलवायु कार्रवाई निर्धारित करना. जलवायु कार्रवाई पर स्वास्थ्य समुदाय को जुटाना और उनका समर्थन करना.

डब्ल्यूएचओ ने दुनिया भर के स्वास्थ्य समुदाय से जुड़े कम से कम 4.5 करोड़ डॉक्टरों और स्वास्थ्य पेशेवरों का प्रतिनिधित्व करने वाले 300 संगठनों के राष्ट्रीय नेताओं और कॉप 26 देश के प्रतिनिधिमंडलों को एक खुले पत्र पर हस्ताक्षर किए, जिसमें जलवायु संकट को दूर करने के लिए वास्तविक कार्रवाई का आह्वान किया गया है.

(साभार डाउन टू अर्थ)

Also Read :
जलवायु परिवर्तन: दुनियाभर में 180 करोड़ लोगों पर खतरे की आशंका
जलवायु परिवर्तन: भारत सहित दुनियाभर के 100 करोड़ से ज्यादा बच्चों पर मंडरा रहा गंभीर खतरा
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like