यूपी में राशन धांधली पर खबर करने को लेकर एनबीटी के दो पत्रकारों के खिलाफ एफआईआर

शिकायत में कहा गया है कि पत्रकारों ने सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाई साथ ही मारपीट भी की.

यूपी में राशन धांधली पर खबर करने को लेकर एनबीटी के दो पत्रकारों के खिलाफ एफआईआर
  • whatsapp
  • copy

गरीबों को मिल रहे राशन वितरण में हो रही धांधली पर खबर करने को लेकर नवभारत ऑनलाइन के पत्रकार विश्व गौरव और आशीष सुमित वर्मा के खिलाफ लखनऊ पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है.

पत्रकारों के खिलाफ मार्केटिंग इंस्पेक्टर शशि सिंह ने यह केस दर्ज कराया है. शिकायत में कहा गया है कि पत्रकारों ने सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाई साथ ही मारपीट भी की.

केस दर्ज होने के बाद पत्रकार आशीष सुमित ने ट्वीट कर कहा, “सच दिखाने की कोशिशों पर 'पहरा', लखनऊ के डरे अधिकारियों ने दर्ज कराई NBT पत्रकारों पर FIR, लापरवाह अब भी कुर्सी पर जमे.”

वहीं पत्रकार विश्व गौरव ने लिखा, “आप कराइए FIR, हम इन धमकियों से नहीं डरते, क्योंकि हमारी जवाबदेही जनता के प्रति है, कुर्सी के अहंकार में चूर लोगों के प्रति नहीं...

हम लिखेंगे,बोलेंगे और लगातार अपनी जिम्मेदारी निभाते रहेंगे…”

दोनों पत्रकारों के खिलाफ जिस रिपोर्ट को लेकर केस दर्ज किया गया है, वह खबर एनबीटी की वेबसाइट पर 12 सिंतबर यानी रविवार को प्रकाशित की गई है.

इस खबर में बताया गया है कि लखनऊ के तालकटोरा थाना क्षेत्र स्थित बावली चौकी इलाके में मौजूद सरकारी राशन गोदाम अधिकारियों के भरोसे नहीं बल्कि आउटसोर्सिंग कर्मचारियों के भरोसे चल रहा है. मार्केटिंग अधिकारी घर पर बैठे हैं और आउटसोर्सिंग कर्मचारियों के भरोसे राशन गोदाम चलाया जा रहा है.

बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब पत्रकारों पर केस दर्ज किया गया है. उत्तर प्रदेश में पत्रकारों के खिलाफ दर्ज होने वाले मामलों की एक पूरी टाइमलाइन है जिसकी शुरुआत साल 2017 में हुई थी.

यूपी में पत्रकारों के ऊपर हमले और मुकदमे की धमकियां बढ़ गई है, जिसे आप न्यूज़लॉन्ड्री पर पढ़ सकते हैं.

Also Read :
‘गुड न्यूज़ टुडे’ समाचार चैनल से ज्यादा हौसला बढ़ाने वाला चैनल है
पेगासस जासूसी मामले पर केंद्र सरकार ने हलफनामा दाखिल करने से किया इंकार
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like