आउटलुक मैगज़ीन: एक महीने की छुट्टी पर गये प्रधान संपादक

"अनौपचारिक तौर पर हम जानते हैं कि दफ़्तर में यह उनका आखिरी दिन था. मैनेजमेंट की ओर से उनको काफी दबाव झेलना पड़ रहा था."

आउटलुक मैगज़ीन: एक महीने की छुट्टी पर गये प्रधान संपादक
Kartik Kakar
  • whatsapp
  • copy

वेतन में कटौती और देरी

उदाहरण के लिए वेतन में 30-50 प्रतिशत की कटौती के साथ ही एडिटोरियल टीम के सदस्यों से रोजाना दो स्टोरीज जमा करने की मांग की गयी थी. हर महीने 55 स्टोरीज जमा करने वालों को 25,000 रुपये की प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की गयी थी.

कई और मीडिया संस्थानों की तरह ही आउटलुक समूह ने भी कोविड-19 महामारी के दौरान वेतन में कटौती शुरू की थी. पिछले साल 30 मई को समूह के सीईओ इंद्रनील रॉय ने कर्मचारियों को एक ईमेल भेजिए जिसका शीर्षक था "चुनौतीपूर्ण समय में कठिन निर्णय."

रॉय लिखते हैं, "कोविड-19 महामारी से पैदा हुए संकट ने दुनिया में एक आर्थिक उथल-पुथल मचा दी है, जिसने कंपनियों को ऐसे दुर्भाग्यपूर्ण और विवश कर देने वाले समय में भी कई अप्रिय निर्णय लेने को विवश कर दिया है." परिणामस्वरूप वे कर्मचारी जिनकी तनख्वाह 3 से 5 लाख प्रति वर्ष थी उसमें 25 प्रतिशत की कटौती की गई. जिनकी वार्षिक आय 5 से 10 लाख थी, उनके वेतन में 40 प्रतिशत की कटौती हुई और जिनकी 10 लाख या उससे ज्यादा थी, उन्हें अपनी 50 प्रतिशत तनख्वाह गंवानी पड़ी.

एक पूर्व कर्मचारी, जिन्होंने इस घोषणा के कुछ समय बाद ही नौकरी छोड़ दी थी, कहते हैं, "वेतन में कुछ हफ्ते की देरी तो 2014-15 के बाद हमेशा से ही रही है. लेकिन इस ईमेल ने घोषणा की कि वेतन में कटौती बीते अप्रैल से चालू होकर पिछले महीनों में मिल चुके वेतन पर भी लागू होगी. मुझे इस बात पर बहुत क्रोध आया क्योंकि यह अनैतिक था, यह तो ऐसा था जैसे कि कोई मेरी जेब से पैसा निकाल रहा हो."

रॉय की इमेज में उल्लेखित था कि वेतन में कटौती अप्रैल मई और जून के महीने पर लागू होगी. लेकिन 26 जुलाई 2020 को समूह के मानव संसाधन विभाग ने कर्मचारियों को एक और ईमेल इस बात की पुष्टि करते हुए भेजी की कंपनी "वित्तीय वर्ष 2021 की दूसरी तिमाही (जुलाई से सितंबर) में भी वेतन में कटौती निम्नलिखित तालिका के अनुसार जारी रखेगी."

इस ईमेल के अनुसार वेतन में कटौती के मानदंड यह थे, 3 से 5 लाख रुपए सालाना वेतन वालों के लिए 10 प्रतिशत, 5 से 10 लाख रुपए सालाना वेतन पाने वालों के लिए 22.5 प्रतिशत, 15 से 20 लाख सालाना वेतन पाने वालों के लिए 25 प्रतिशत, 20 से 25 लाख सालाना वेतन पाने वालों के लिए 30 प्रतिशत, 25 से 30 लाख रुपए सालाना वेतन वालों के लिए 35 प्रतिशत और 30 लाख रुपए या उससे अधिक वेतन पाने वालों के लिए यह कटौती 40 प्रतिशत थी.

समूह के एक कर्मचारी ने न्यूजलॉन्ड्री को बताया, “इस सब के दौरान तनख्वाह देरी से ही आ रही थी बकाया वेतन देने में 4 महीने की देरी चल रही है. मुझे आखिरी बार वेतन दो महीने पहले मिला था." यह रिपोर्ट प्रकाशित होने के बाद आउटलुक समूह के इंद्रनील रॉय ने न्यूजलॉन्ड्री से संपर्क किया और दोहराया कि, "सभी कर्मचारियों की तनख्वाह 30 दिन के चक्र के अंदर ही दी जा रही है."

वेतन में कटौती संस्थान के अंदर कई लोगों को निकाल देने के साथ ही आई. आउटलुक के पूर्व कर्मचारी जिन्होंने समूह में वर्षों तक काम किया था, न्यूजलॉन्ड्री से कहते हैं, "महामारी की पहली लहर के दौरान, हम घर से काम कर रहे थे और अचानक ही हमें अपना हिसाब करने के लिए कह दिया गया. जिन लोगों को हटाया गया उन्हें तीन महीने की तनख्वाह कटौती के बाद मिली."

कम से कम दो पूर्व कर्मचारियों ने इस बात की पुष्टि की कि पिछले साल करीब 30 से 40 लोगों को नौकरी छोड़ने के लिए कहा गया था. इन लोगों में से कुछ उल्लेखनीय लोग खेल पत्रकार कैसर मोहम्मद अली, विदेशी मामलों के संपादक प्रणय शर्मा, फोटो डिवीजन के प्रमुख जितेंद्र गुप्ता और प्रधान फोटो कोऑर्डिनेटर रक्षित थे. कुछ परिस्थितियों की वजह से आउटलुक मनी के संपादक अरिंदम मुखर्जी ने भी पिछले वर्ष जून में इस्तीफा दे दिया था.

न्यूजलॉन्ड्री ने रूबेन बनर्जी से प्रतिक्रिया के लिए संपर्क किया. उन्होंने वेतन में कटौती, वेतन मिलने में देरी, निकाले जाने और मैगजीन के "मिसिंग" कवर पर टिप्पणी करने से मना कर दिया.

उन्होंने न्यूज़लॉन्ड्री को बताया, "हां मैं छुट्टी पर गया हूं क्योंकि मुझे थोड़ा अपना सर हल्का करने और चिंतन की जरूरत थी. मुझे अपनी आउटलुक की टीम पर अत्यधिक गर्व है जो बहुत मुश्किल परिस्थितियों में निष्पक्ष, वस्तुनिष्ठ और संतुलित पत्रकारिता करती रही है."

आउटलुक समूह के सीईओ इंद्रनील रॉय ने इस बात से इनकार किया कि बनर्जी कंपनी को छोड़ रहे हैं. उन्होंने कहा, "बिल्कुल नहीं. मैंने ही उनकी छुट्टी को स्वीकृति दी. हमारी डिजिटल पॉलिसी के अनुसार, संस्थान के अंदर पुनर्गठन हो रहा है. बहुत काम चल रहा है और रूबेन ने कहा, मुझे एक ब्रेक लेने दो'."

रॉय ने इस बात से भी इनकार किया है कि प्रबंधन पर "मिसिंग" वाले कवर के बाद से कोई दबाव है.

पेगासस इस मामले के कवर स्टोरी न बनने पर वे कहते हैं, "इस पर चर्चा की थी और पाया कि रिपोर्ट में कुछ नया नहीं था." इस बात को स्वीकार किया कि जारी पुनर्गठन के चलते हमें उन लोगों को जाने देना पड़ा जो डिजिटल तौर पर इतने समर्थ नहीं थे/ जिनका डिजिटल की ओर झुकाव कम था.

अपडेट - यह रिपोर्ट आउटलुक की वेबसाइट पर "मिसिंग" कवर को लेकर विस्तृत जानकारी इंद्रनील रॉय की टिप्पणी के साथ अपडेट की गई है. समूह से अरिंदम मुखर्जी का जाना भी स्पष्ट कर दिया गया है.

इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

Also Read :
जनसत्ता डिजिटल: क्लिकबेट, हिट बटोरू, सनसनीपसंद पत्रकारिता की नई सत्ता
संसद से सड़क तक पिंकी चौधरियों के ठाठ और मोदीजी का टेपरिकॉर्डर
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like