कोरोना काल में सरकार की नाकामी बनी गरीबों की परेशानी

कोरोना का सबसे ज्यादा असर नीचले तबके पर पड़ा है. देशभर के मजदूरों के पास अब न तो काम है ना खाने के लिए पैसे बचे हैं.

कोरोना काल में सरकार की नाकामी बनी गरीबों की परेशानी
  • whatsapp
  • copy

उत्तर प्रदेश के 75 जिलों और बिहार के 38 जिलों में कई दलित मजदूर रहते हैं, जो मजदूरी करके अपने परिवार का पालन-पोषण करते हैं. लेकिन साल 2020 से चल रही कोरोना महामारी और लॉकडाउन की वजह से पहले से समाज में भेदभाव झेल रहे मजदूरों के जीवन पर संकट खड़ा कर दिया है. कोरोना महामारी और लॉकडाउन की वजह से लोग इधर-उधर भाग रहे हैं. सरकार टीवी के माध्यम से सड़कों पर लाउडस्पीकर लगाकर लोगों से घर में रहने की अपील कर रही है. मजबूरियों के बावजूद भी लोग लॉकडाउन के चलते घरों में बंद हैं, लेकिन परिवार को क्या खिलाना है इसको लेकर सरकार ना ही लाउडस्पीकर से घोषणा करती है, और ना ही सरकार इस पर अपनी कोई जवाबदेही रखती है.

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की रिपोर्ट बताती है कि 23 जनवरी 2020 को भारत में पहले कोरोना वायरस केस की पुष्टि हुई थी और मई 2021 आते-आते यह आंकड़ा लगभग 2,75,55,457 तक पहुंच चुका था. जिनमें तीन लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें वो मौतें भी शामिल हैं जो चार घंटे से भी कम समय के भीतर अचानक लगाए गए राष्ट्रीय लॉकडाउन के दौरान अलग-अलग राज्यों में फंस गए थे. तब हजारों लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घरों को निकल पड़े थे. उनमें से कई मजदूरों ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया था. सरकार की ओर से कोई वाहनों की सुविधा नहीं दी गई थी. इस वजह से सरकार की काफी आलोचना हुई थी.

दलितों की आवाज उठाने वाले हरदोई जिले के निवासी 30 वर्षीय आरके ने बताया, "यूपी में 20.6 फीसदी आबादी दलितों की है. इनमें अधिकतर लोग मजदूरी करते हैं. हरदोई जिले में 17 फीसदी ऐसे लोग हैं जो काम न मिल पाने के कारण शहरों की ओर पलायन करते हैं. लेकिन महामारी में वे सभी मजदूरी के लिए भटक रहे हैं जिसके कारण शहरों से फिर वापस गांव आ रहे हैं. लेकिन गांव में भी काम न होने के कारण फिर से बंधुआ मजदूरी करने के लिए मजबूर हैं."

गांव के ही अन्य निवासी हरिओम कहते हैं, "कोरोना काल आने के बाद से बेरोजगार भटक रहा हूं. काम न मिलने की वजह से बड़ी परेशानी हो रही है. सरकार राशन कार्ड पर सुविधा दे रही है, लेकिन मेरे पास राशन कार्ड तक नहीं है."

उत्तर प्रदेश की कुल जनसंख्या 231,502,578 से ज्यादा है. उत्तर प्रदेश आबादी के लिहाज से भारत का सबसे बड़ा राज्य है. यूपी की बात की जाए तो लगभग 6368361 ऐसे परिवार हैं जो अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के हैं. जिसमें एससी-एसटी जाति से आने वाले मजदूर जिनकी आय का स्त्रोत खेतीबाड़ी है वो 1883413 परिवार हैं. जबकि नियमतिक 5473889 हैं. इसके अलावा घरेलू काम करने वाले परिवारों की संख्या 115983 है और यह दोनों राज्यों के बेबस लोग हैं जो कोरोना, लॉकडाउन और आर्थिक मंदी की मार झेल रहे हैं.

विश्व बैंक की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, ज्यादातर गरीब मजदूरी करके अपना जीवन यापन करते हैं. इनमें से 34 फीसदी खेतों पर मजदूरी करते हैं तो 30 फीसदी अपने खेतों पर कार्य करते हैं और 17 फीसदी दूसरे राज्यों में मजदूरी करते हैं. कोरोना महामारी का प्रकोप मजदूरों से लेकर प्रवासी मजदूरों पर भी देखने को मिला. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, 29 मार्च 2020 तक कोरोना वायरस के चलते देश में कुल 25 लोगों की मौत हो चुकी थी.

दूसरी ओर, लॉकडाउन के चलते सड़क दुर्घटना और मेडिकल इमरजेंसी से अब तक 20 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है. अब ये तो रहे सरकार के आधिकारिक आंकड़े, लेकिन उन आंकड़ों का क्या जो लॉकडाउन में भुखमरी की वजह से कई मजदूर मौत का शिकार हुए हैं. मौत का शिकार हो गई यह मौतें कोरोना की वजह से नहीं बल्कि कोरोना के दौरान भुखमरी की वजह से हुई थी.

लेबर एक्टिविस्ट शिव कुमार कहते हैं, “कोरोना महामारी के दौरान बहुत कुछ खो दिया है. कोरोना में मजदूरों ने कुछ पाया नहीं है. काम और घर के सदस्य तक मजदूरों ने खो दिए. सरकार ने मजदूरों के लिए कोई कानून नहीं बनाया. लॉकडाउन से महामारी पर काबू नहीं पाया जा सकता है. हम सरकार से मांग करते हैं कि मजदूरों के लिए अस्पताल, डॉक्टर उपलब्ध कराएं जाएं. ताकि महामारी पर काबू पाया जा सके. मजदूरों को भत्ता मिले और श्रम कानून को रद्द करे.”

(यह रिपोर्ट न्यूज़लॉन्ड्री और इंडिया डाटा पोर्टल की साझा फेलोशिप के तहत की गई है. इसमें इंडिया डाटा पोर्टल की विस्तृत आंकड़ों की मदद ली गई है.)

Also Read :
खनन माफियाओं के खिलाफ खबर करने पर पत्रकार को जान से मारने की धमकी!
खनन माफियाओं के खिलाफ खबर करने पर पत्रकार को जान से मारने की धमकी!
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like