क्या सेकेंड वेव के बीच अपनी उपलब्धियों के प्रचार की तैयारी में है मोदी सरकार?

प्रेस इन्फॉरमेशन ब्यूरो ने पत्र लिखकर सभी मत्रालयों से दो साल की उपलब्धियों का विवरण मांगा.

क्या सेकेंड वेव के बीच अपनी उपलब्धियों के प्रचार की तैयारी में है मोदी सरकार?
  • whatsapp
  • copy

पूरा देश जब करोना की सेकेंड वेव से पस्त हुआ पड़ा है, मरने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. ऐसे में प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) की ओर से एक पत्र जारी किया गया है जिसमें मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल यानी मई 2019 के बाद दो सालों के दौरान सरकार के सभी मंत्रालयों से उनकी उपलब्धियों का ब्यौरा मांगा गया है. इस बाबत जारी एक पत्र न्यूज़लॉन्ड्री को मिला जो कि 16 अप्रैल को जारी हुआ है. पीआईबी के प्रधान महानिदेशक जयदीप भटनागर की तरफ से जारी इस पत्र में सभी मंत्रालयों से कहा गया है कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में अब तक सभी मंत्रालय अपनी उपल्बधियों का एक राइट अप भेजें.

पत्र में अनुरोध किया गया है कि अधिकतम दो पन्नो में उपलब्धियों का संक्षिप्त विवरण दें. आगे कहा गया है कि कृपया हमें सरकार के पिछले दो वर्षों की उपलब्धियां cordpib@gmail.com और pdg-pib@nic.in पर मंगलवार 20 अप्रैल 2021 तक ईमेल करें.

पीआईबी का पत्र

पीआईबी का पत्र

इसके अलावा राइटअप संबंधित मंत्रालय से जुड़े पीआईबी अधिकारी को भी सौंपा जा सकता है, जो उसी के संबंध में आपके कार्यालय के संपर्क में रहेगा.

कोरोना की दूसरी लहर में जब कोविड-19 के चलते देशभर में हाहाकार मचा हुआ है तब सरकार अपने कार्यों की उपलब्धियों को लेकर एक कार्यक्रम की योजना बना रही है. यह सवाल खड़ा होता है कि क्या इस महामारी के बीच भी सरकार प्रचार प्रसार में लगी है.

बता दें कि जिस दिन यह पत्र जारी हुआ है उस दिन यानी 16 अप्रैल को देश भर में 2,17,353 कोरोना के मामले सामने आए थे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों से पता चलता है कि उस दिन 1,185 लोगों की कोरोना से मौत हो गई थी. यानी कोरोना की दूसरी वेव अपने चढ़ान पर थी.

वहीं सक्रिय मामले इस दोरान बढ़कर 15,69,743 हो गए. इस दिन महाराष्ट्र में सबसे अधिक 61,695 कोरोना के मामले सामने आए. जबकि उत्तर प्रदेश में 22,339 मामले और दिल्ली में 16,699 कोरोना के मामले सामने आए.

Also Read :
कोविड का कोहराम: शोक संदेशों से पटे गुजराती अखबार
क्या सर गंगाराम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से हुई कोरोना मरीजों की मौत?
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like