पत्रकारों से मारपीट के मामले में अखिलेश यादव पर एफआईआर दर्ज

घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पत्रकारों ने की थी घटना की निंदा.

पत्रकारों से मारपीट के मामले में अखिलेश यादव पर एफआईआर दर्ज
  • whatsapp
  • copy

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में गुरुवार को मुरादाबाद में पत्रकारों के साथ हुई मारपीट को लेकर एफआईआर दर्ज हो गई है. इस केस में अखिलेश यादव के साथ 20 अन्य सपा कार्यकर्ताओं को भी नामजद किया गया है.

अमर उजाला की खबर के मुताबिक, इंडियन प्रेस अलाइवनेस एसोसिएशन (आईपीएए) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अवधेश पाराशर की शिकायत पर केस दर्ज हुआ है. इस शिकायत में आरोप लगाया गया है कि एक स्थानीय होटल में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ओर से आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कुछ पत्रकारों ने व्यक्तिगत सवाल पूछ लिए जिससे गुस्साए अखिलेश यादव ने अपने सुरक्षा गार्ड और सपा कार्यकर्ताओं से पत्रकारों को बंधक बनवा लिया और उनकी पिटाई करवाई थी.

पूर्व मुख्यमंत्री और 20 अन्य सपा कार्यकर्ताओं पर तीन धाराओं 147 342 और 323 के तहत केस दर्ज किया गया है. इस बीच, सपा के जिलाध्यक्ष जय वीर सिंह यादव ने भी पत्रकारों के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराई है.

सपा जिला अध्यक्ष ने अपनी शिकायत में दो मीडिया वालों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराया है. उन्होंने आरोप लगाया कि खुद को पत्रकार बताने वाले दो व्यक्तियों ने पूर्व मुख्यमंत्री का सुरक्षा घेरा तोड़कर अंदर घुसने की कोशिश की, जब उन्हें सुरक्षा गार्डों ने रोका तो उनके साथ मारपीट की गई.

गौरतलब हैं कि गुरुवार को मुरादाबाद में आगामी विधानसभा चुनाव के सिलसिले में कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंचे अखिलेश यादव की प्रेस वार्ता में पत्रकारों के साथ मारपीट की गई थी. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने पर के बाद विपक्ष ने सपा अध्यक्ष पर हमला बोला था.

Also Read :
क्या अखिलेश यादव को जगन मोहन रेड्डी से राजनीति सीखनी चाहिए?
किसान आंदोलन का समर्थन उत्तर प्रदेश के सैनी किसान क्यों नहीं कर रहे हैं
क्या अखिलेश यादव को जगन मोहन रेड्डी से राजनीति सीखनी चाहिए?
किसान आंदोलन का समर्थन उत्तर प्रदेश के सैनी किसान क्यों नहीं कर रहे हैं

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में गुरुवार को मुरादाबाद में पत्रकारों के साथ हुई मारपीट को लेकर एफआईआर दर्ज हो गई है. इस केस में अखिलेश यादव के साथ 20 अन्य सपा कार्यकर्ताओं को भी नामजद किया गया है.

अमर उजाला की खबर के मुताबिक, इंडियन प्रेस अलाइवनेस एसोसिएशन (आईपीएए) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अवधेश पाराशर की शिकायत पर केस दर्ज हुआ है. इस शिकायत में आरोप लगाया गया है कि एक स्थानीय होटल में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ओर से आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कुछ पत्रकारों ने व्यक्तिगत सवाल पूछ लिए जिससे गुस्साए अखिलेश यादव ने अपने सुरक्षा गार्ड और सपा कार्यकर्ताओं से पत्रकारों को बंधक बनवा लिया और उनकी पिटाई करवाई थी.

पूर्व मुख्यमंत्री और 20 अन्य सपा कार्यकर्ताओं पर तीन धाराओं 147 342 और 323 के तहत केस दर्ज किया गया है. इस बीच, सपा के जिलाध्यक्ष जय वीर सिंह यादव ने भी पत्रकारों के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराई है.

सपा जिला अध्यक्ष ने अपनी शिकायत में दो मीडिया वालों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराया है. उन्होंने आरोप लगाया कि खुद को पत्रकार बताने वाले दो व्यक्तियों ने पूर्व मुख्यमंत्री का सुरक्षा घेरा तोड़कर अंदर घुसने की कोशिश की, जब उन्हें सुरक्षा गार्डों ने रोका तो उनके साथ मारपीट की गई.

गौरतलब हैं कि गुरुवार को मुरादाबाद में आगामी विधानसभा चुनाव के सिलसिले में कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंचे अखिलेश यादव की प्रेस वार्ता में पत्रकारों के साथ मारपीट की गई थी. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने पर के बाद विपक्ष ने सपा अध्यक्ष पर हमला बोला था.

Also Read :
क्या अखिलेश यादव को जगन मोहन रेड्डी से राजनीति सीखनी चाहिए?
किसान आंदोलन का समर्थन उत्तर प्रदेश के सैनी किसान क्यों नहीं कर रहे हैं
क्या अखिलेश यादव को जगन मोहन रेड्डी से राजनीति सीखनी चाहिए?
किसान आंदोलन का समर्थन उत्तर प्रदेश के सैनी किसान क्यों नहीं कर रहे हैं
newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like