रैली की खाली कुर्सियों को मोदी के भाषण से भर रहा है अमर उजाला

अमर उजाला ने छापा था कि प्रधानमंत्री की रैली में अपेक्षा से बहुत कम लोग पहुंचे. फिर ख़बर हटा दी।

रैली की खाली कुर्सियों को मोदी के भाषण से भर रहा है अमर उजाला
  • whatsapp
  • copy

गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मेरठ से लोकसभा चुनाव के प्रचार अभियान की शुरुआत की. ऐसी खबरें आई कि प्रधानमंत्री की इस रैली में उम्मीद के मुताबिक भीड़ नहीं पहुंची. इसी को लेकर अमर उजाला डॉट कॉम पर शुक्रवार को एक ख़बर प्रकाशित हुई. ख़बर का शीर्षक था, ‘पीएम मोदी की रैली: दावा था साढ़े तीन लाख का, लोग आए 30 हजार, सीएम योगी की चढ़ी त्योरी’.

ये खबर अमर उजाला डॉट कॉम पर कुछ देर ही रही और उसके बाद इसे हटा लिया गया. जिसके बाद खबर पढ़ने के लिए लिंक खोलने पर 404 लिखा हुआ आ रहा था. यह सिलसिला लगभग दो घण्टे तक चला.

कुछ ही देर बाद उसी यूआरएल पर अमर उजाला ने दूसरी खबर लगा दी. जो पीएम मोदी की मेरठ रैली से ही सम्बंधित है. जिसका शीर्षक दिया गया ‘पीएम मोदी ने सपा, बसपा और कांग्रेस पर साधा निशाना, जनता की सेहत के लिए खराब बताया ‘गठबंधन’. हालांकि  खबर लिखने तक अमर उजाला के फेसबुक पेज पर पुरानी हेडिंग के साथ ही खबर मौजूद है लेकिन लिंक पर क्लिक करने के बाद दूसरी खबर आ रही है. जिसका ऊपर हमने जिक्र किया है.

इस संबंध में हमने अमर उजाला वेबसाइट के संपादक जयदीप कर्णिक को फोन किया तो उन्होंने इससे इसके लिए खुद को जिम्मेदार नहीं बताते हुए अमर उजाला मेरठ डिजिटल से जुड़े राजीव सिंह का नम्बर हमसे साझा किया. हमने खबर हटाने और उसके बाद खबर बदलने को लेकर राजीव सिंह को कई दफा फोन किया. उन्हें मैसेज किया लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. उनका जवाब आने पर हम उसे खबर में जोड़ देंगे.

हालांकि ये ख़बर अमर उजाला के प्रिंट वर्ज़न के मेरठ संस्करण में भी छपी है. अमर उजाला अखबार में छपी ख़बर के अनुसार बीजेपी की ये रैली पिछली दो रैलियों से बेहद फीकी रही. मोदी की मेरठ में पहली रैली 2 फरवरी, 2014 को शताब्दी नगर के माधवकुंज में हुई थी. वह रैली स्थल काफी बड़ा था पर खचाखच भरा था. अनुमान है कि उस रैली में करीब डेढ़ लाख लोगों की भीड़ जुटी थी.

पीएम मोदी की दूसरी रैली 4 फरवरी, 2017 को इसी मैदान पर हुई. इसमें भी काफी भारी भीड़ जुटी थी. गुरुवार को रैली में भाजपाइयों ने 3.50 लाख की भीड़ जुटाने का दावा किया था लेकिन अख़बार की रिपोर्ट में बताया गया कि 25-30 हज़ार लोग ही पहुंचे. पीछे की तरफ पूरा मैदान खाली पड़ा था. प्रधानमंत्री को 11.15 पर पहुंचना था लेकिन तब तक करीब 5 हज़ार लोग ही जमा हुए थे.

योगी की चढ़ी त्योरियां

ख़बर में आगे है लिखा गया है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सभा स्थल पर 11 बजे पहुंचे थे. वह सीधे मंच पर आये और जनता का अभिवादन किया. उन्होंने मैदान की स्थिति देखी, तो उनकी त्योरी चढ़ गई. वह कुछ देर रुकने के बाद मंच के पीछे बने कॉटेज में जाकर बैठ गए.

अमर उजाला डॉट कॉम ने पहली बार नहीं हटाई ख़बर

ऐसा नहीं हैं कि अमर उजाला डॉट कॉम ने पहली दफा किसी ख़बर को अपने वेबसाइट पर प्रकाशित करने के बाद हटाया है. इससे पहले भी ऐसा हो चुका है और इत्तफ़ाक़ से वो ख़बर भी पीएम नरेंद्र मोदी से ही जुड़ी हुई थी. भड़ास डॉट कॉम के अनुसार पीएम मोदी दावोस गए और वहां भाषण पढ़ते वक्त गलती से 600 करोड़ मतदाता बोल गए थे. अगले दिन अमर उजाला अखबार ने इसे 15वें पेज पर स्थान दिया. उसी दिन यह ख़बर अमर उजाला की वेबसाइट पर भी छपी. बाद में डॉट कॉम से यह ख़बर हटा ली गई थी.

जहां एक तरफ बीजेपी के समर्थकों का कहना है कि प्रधानमंत्री की रैली में भारी संख्या में लोग पहुंचे वहीं मेरठ के स्थानीय पत्रकारों की मानें तो बहुत कम भीड़ दिखी. मेरठ के रहने वाले एक स्थानीय पत्रकार मोहित कुमार सैनी ने अपने फेसबुक वॉल पर एक वीडियो शेयर किया जिसमें रैली के दौरान सैकड़ों कुर्सियां खाली दिख रही थीं.

newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

You may also like