मुख्यधारा की मीडिया के लिए सबसे ज्यादा खतरा खुद न्यूज़ चैनलों से ही- अनुराग ठाकुर

अनुराग ठाकुर ने पत्रकारों को लेकर कहा कि, पत्रकारों का काम है कि वह खबरों को बिना किसी तोड़मरोड़ के करें भले ही उनका प्रतिस्पर्धी फेक न्यूज़ चला रहा हो.

मुख्यधारा की मीडिया के लिए सबसे ज्यादा खतरा खुद न्यूज़ चैनलों से ही- अनुराग ठाकुर
गोबिंद
  • whatsapp
  • copy

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने एक कार्यक्रम में कहा, “यदि आप ऐसे मेहमानों को चैनलों पर आमंत्रित करेंगे जो ध्रुवीकरण कर रहे हैं, जो झूठी खबरें फैलाते हैं, और जो जोर-जोर से चिल्लाते हैं, तो इससे आपके चैनल की विश्वसनीयता कम हो जाती है.”

ठाकुर यह बात एशिया-पैसिफिक इंस्टिट्यूट फॉर ब्रॉडकास्टिंग डेवलपमेंट द्वारा आयोजित एआईबीडी जनरल कॉन्फ्रेंस 2022 में बोल रहे थे.

उन्होंने कहा, “मुख्यधारा की मीडिया को सबसे ज्यादा खतरा ऑनलाइन मीडिया से नहीं बल्कि खुद न्यूज़ चैनलों से है.”

भारतीय टीवी चैनलों में शोर-शराबे वाली बहसों पर मंत्री ने चेतावनी देते हुए कहा कि, ‘युवा दर्शक’ यह देखकर चैनल बदल देंगे. उन्होंने मीडिया चैनलों से सवाल पूछते हुए कहा कि क्या आप खेल में आगे रहने के लिए समाचारों और चर्चाओं में तटस्थता को वापस लाने जा रहे हैं?

अनुराग ठाकुर ने पत्रकारों को लेकर कहा कि, पत्रकारों का काम है कि वह खबरों को रिपोर्ट बिना किसी तोड़मरोड़ के करें भले ही उनका प्रतिस्पर्धी फेक न्यूज़ चला रहा हो.

subscription-appeal-image

Support Independent Media

क्या मीडिया सत्ता या कॉर्पोरेट हितों के बजाय जनता के हित में काम कर सकता है? बिल्कुल कर सकता है, लेकिन तभी जब वह धन के लिए सत्ता या कॉरपोरेट स्रोतों के बजाय जनता पर निर्भर हो. इसका अर्थ है कि आपको खड़े होना पड़ेगा और खबरों को आज़ाद रखने के लिए थोड़ा खर्च करना होगा. सब्सक्राइब करें.

Also see
आपके मीडिया का मालिक कौन है: जागरण समूह और भारत के सबसे अधिक पढ़े जाने वाले दैनिक की कहानी
“हिंदी मुस्लिम लाओ, योगी- मोदी की आलोचना नहीं”: न्यूज़ नेशन के पत्रकार ने अपने इस्तीफे में कहा

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like