बजट 2021-22: पीएम किसान सम्मान निधि सहित कई कल्याणकारी योजनाओं के खर्च में कटौती

आम बजट में सामाजिक कल्याण योजनाओं को झटका लगा है.

Byभागीरथ
   bookmark_add
बजट 2021-22: पीएम किसान सम्मान निधि सहित कई कल्याणकारी योजनाओं के खर्च में कटौती
  • whatsapp
  • copy

राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना

इस योजना का बजट अनुमान भी पिछले बजट अनुमान के मुकाबले 28 करोड़ रुपए कम है. पिछले वर्ष के बजट में 6,429 करोड़ रुपए का बजट अनुमान था. संशोधित अनुमान बताते हैं कि इस बजट अनुमान का आधा भी खर्च नहीं हुआ. केवल 3,129 करोड़ रुपए ही खर्च किए गए. वित्त वर्ष 2021-22 के लिए इस योजना का बजट अनुमान 6,401 करोड़ रुपए है.

सीमा क्षेत्र विकास कार्यक्रम

इस कार्यक्रम का बजट अनुमान पिछले बजट अनुमान से करीब 218 करोड़ रुपए कम है. इस कार्यक्रम का पिछला बजट अनुमान 784 करोड़ रुपए था, जबकि इस वर्ष का बजट अनुमान 566 करोड़ रुपए है. पिछले बजट के संशोधित अनुमानों की मानें तो केवल 50 करोड़ रुपए ही इस कार्यक्रम पर खर्च हुए.

पर्यावरण, वानिकी एवं वन्यजीव

पर्यावरण की नाजुक हालत सभी के लिए भले ही चिंता का विषय हो लेकिन शायद सरकार ऐसा नहीं मानती. पर्यावरण, वानिकी एवं वन्यजीव के लिए पिछला बजट अनुमान 926 करोड़ रुपए था. 2021-22 के बजट अनुमान में इसे घटाकर 766 करोड़ कर दिया गया है. 2020-21 के संशोधित अनुमानों के मुताबिक 556 करोड़ ही इन पर खर्च किए गए.

बाजार हस्तक्षेप एवं मूल्य समर्थन योजना

इस योजना के बजट में करीब 500 करोड़ रुपए की कमी की गई है. इस योजना का पिछला बजट अनुमान 2,000 करोड़ (संशोधित अनुमान 996 करोड़) था. 2021-22 के बजट में इसे घटाकर 1,501 करोड़ रुपए कर दिया गया है.

पीएम किसान सम्मान निधि

लोकसभा चुनाव से ऐन पहले शुरू की गई इस योजना का बजट भी पिछले बजट अनुमान के मुकाबले कम कर दिया गया है. 2021-22 के बजट में इस योजना का बजट अनुमान 65,000 करोड़ रुपए है. पिछला बजट अनुमान 75,000 करोड़ रुपए का था. हालांकि संशोधित बजट अनुमान 65,000 करोड़ रुपए ही था.

(साभार- डाउन टू अर्थ)

राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना

इस योजना का बजट अनुमान भी पिछले बजट अनुमान के मुकाबले 28 करोड़ रुपए कम है. पिछले वर्ष के बजट में 6,429 करोड़ रुपए का बजट अनुमान था. संशोधित अनुमान बताते हैं कि इस बजट अनुमान का आधा भी खर्च नहीं हुआ. केवल 3,129 करोड़ रुपए ही खर्च किए गए. वित्त वर्ष 2021-22 के लिए इस योजना का बजट अनुमान 6,401 करोड़ रुपए है.

सीमा क्षेत्र विकास कार्यक्रम

इस कार्यक्रम का बजट अनुमान पिछले बजट अनुमान से करीब 218 करोड़ रुपए कम है. इस कार्यक्रम का पिछला बजट अनुमान 784 करोड़ रुपए था, जबकि इस वर्ष का बजट अनुमान 566 करोड़ रुपए है. पिछले बजट के संशोधित अनुमानों की मानें तो केवल 50 करोड़ रुपए ही इस कार्यक्रम पर खर्च हुए.

पर्यावरण, वानिकी एवं वन्यजीव

पर्यावरण की नाजुक हालत सभी के लिए भले ही चिंता का विषय हो लेकिन शायद सरकार ऐसा नहीं मानती. पर्यावरण, वानिकी एवं वन्यजीव के लिए पिछला बजट अनुमान 926 करोड़ रुपए था. 2021-22 के बजट अनुमान में इसे घटाकर 766 करोड़ कर दिया गया है. 2020-21 के संशोधित अनुमानों के मुताबिक 556 करोड़ ही इन पर खर्च किए गए.

बाजार हस्तक्षेप एवं मूल्य समर्थन योजना

इस योजना के बजट में करीब 500 करोड़ रुपए की कमी की गई है. इस योजना का पिछला बजट अनुमान 2,000 करोड़ (संशोधित अनुमान 996 करोड़) था. 2021-22 के बजट में इसे घटाकर 1,501 करोड़ रुपए कर दिया गया है.

पीएम किसान सम्मान निधि

लोकसभा चुनाव से ऐन पहले शुरू की गई इस योजना का बजट भी पिछले बजट अनुमान के मुकाबले कम कर दिया गया है. 2021-22 के बजट में इस योजना का बजट अनुमान 65,000 करोड़ रुपए है. पिछला बजट अनुमान 75,000 करोड़ रुपए का था. हालांकि संशोधित बजट अनुमान 65,000 करोड़ रुपए ही था.

(साभार- डाउन टू अर्थ)

newslaundry logo

Pay to keep news free

Complaining about the media is easy and often justified. But hey, it’s the model that’s flawed.

Comments

We take comments from subscribers only!  Subscribe now to post comments! 
Already a subscriber?  Login


You may also like